छात्र को चार बार डसने वाली नागिन पर पांच हजार का ईनाम घोषित

छात्र को चार बार डसने वाली नागिन पर पांच हजार का ईनाम घोषित

शाहजहांपुर   उत्तर प्रदेश में अपराधियों के बाद विभिन्न संगठनों के किसी मामले में ईनाम घोषित करने के तो सैकड़ों मामले सामने आए हैं लेकिन नागिन के ऊपर ईनाम रखने का अनोखा मामला भी अब लोगों के सामने है। शाहजहांपुर में एक शख्स ने अपने बेटे को चार डसने वाली नागिन पर पांच हजार रुपए का ईनाम घोषित किया है। अब सपेरे नागिन की खोज में लगे हैं।

शाहजहांपुर के एक गांव में किसान ने एक नागिन पर इनाम घोषित किया है। अब जो भी इस नागिन को पकड़ेगा या मारेगा उसे पांच हजार रुपया बतौर इनाम दिया जाएगा। बताया जा रहा है कि छात्र के पीछे नागिन इसलिए पड़ी है क्योंकि इस छात्र ने नागिन के प्रेमी नाग को उस वक्त मार दिया था जब वह दोनों प्रेमालाप में थे।

शाहजहांपुर के निगोही ब्लॉक के खिरिया पश्चिमी गांव में इन दिनों नागिन का खौफ है। गांव में एक नागिन को लेकर हर तरफ चर्चा है। एक नागिन ऐसी है जो गांव के एक छात्र के पीछे पड़ गई है। बताया जा रहा है कि यह नागिन फन वाली है। अभी तक चार बार नागिन लड़के से बदला लेने के लिए उसे डस चुकी है। हर बार देसी इलाज से लड़का बच जाता है।

अपनी जान का खतरा देख छात्र अब सुरक्षा घेरे में चलने लगा है। उसके पिता सोकेंद्र सिंह और ताऊ नन्हे सिंह लाठी लेकर बेटे ब्रजभान की सुरक्षा मे लगे रहते हैं। घर में भी ब्रजभान की सुरक्षा को लेकर बेहद चौकसी बरती जा रही है। पिता सोकेंद्र ने बेटे को चार बार काटने वाली नागिन पर इनाम घोषित कर दिया है। शोकेन्द्र ने कहा कि जो भी बेटे को काट रही नागिन को पकड़ेगा, उसे पांच हजार रुपए का इनाम दिया जाएगा।

खिरिया पश्चिमी गांव में आज से दो वर्ष पहले शोकेन्द्र सिंह के बेटे ब्रजभान ने गन्ने के खेत पर नाग-नागिन का जोड़ा देखा था। ब्रजभान ने नाग को मार दिया था। अब नाग का बदला लेने के लिए नागिन ब्रजभान के पीछे पड़ी हुई है।

ऐसा फिल्मों में होता है

वैसे तो ऐसा फिल्मों में ही देखने को मिलता है कि अगर नाग-नागिन के जोड़े में से किसी भी एक सांप को मार दिया तो दूसरा साथी उसका बदला जरूर लेता है। ब्रजभान के साथ ऐसा वास्तविक जिंदगी में हो रहा है। नागिन उसे चार बार काट चुकी है। वह हर बार बच गया। ब्रजभान की उम्र करीब 21 वर्ष है। हर बार सांप के काटने के बाद उसका इलाज बंडा के सुनासरनाथ मंदिर में किया गया. यहां एक व्यक्ति सर्पदंश का देसी इलाज करता है।

ब्रजभान की सुरक्षा में 24 घंटे तैनात रहते हैं पिता और ताऊ

पिता सोकेंद्र और ताऊ नन्हे ब्रजभान के बॉडीगार्ड बनकर चौबीस घंटे लाठी लेकर साथ में चलते हैं। पिता अपने बेटे ब्रजभान की जान बचाने के लिए नागिन पर पांच हजार रुपए का इनाम घोषित किया है।

नागिन ले रही है नाग की मौत का बदला

पिता ने बताया कि बेटा ब्रजभान जब रूद्रपुर में गन्ने के खेत में काम कर रहा था, तभी उसने नाग-नागिन के एक जोड़े को प्रेमक्रीड़ा करते देखा। शरारत में ब्रजभान ने नाग को मार डाला। नागिन उस वक्त तो कहीं चली गई, लेकिन नवंबर 2016 में उसी खेत में काम करते वक्त ब्रजभान को नागिन ने काट लिया। उस वक्त खेत पर और लोग भी थे। ब्रजभान को तुरंत बंडा के सुनासरनाथ मंदिर ले जाया गया। वहां एक सरदार जी सांप काटने का देसी इलाज करते हैं। उन्होंने ब्रजभान को बचा लिया। पहली बार तो ब्रजभान को पता नहीं था कि वही सांप है, जिसके साथी को उसने मारा था। जब दूसरी बार उसी नागिन ने मई 2017 में पीछा करते हुए ब्रजभान को डसा तो पूरी कहानी सामने आ गई। ब्रजभान ने पूरा किस्सा घरवालों को बताया।

परिवार के सदस्यों ने दो बार सांप काटने को महज इत्तेफाक माना, लेकिन जब बीते महीने जुलाई में तीसरी बार उसी सांप ने ब्रजभान को फिर काटा तो परिवार के लोगों को यकीन हो गया कि नाग की मौत का बदला लेने के लिए ही नागिन बार-बार ब्रजभान को डस रही है।

यह सब चलता रहा, इसी बीच 5 अगस्त को घर पर ही ब्रजभान को फिर नागिन ने काटा। चौथी बार फिर सुनासरनाथ मंदिर वाले सरदार जी ने दवा से ब्रजभान को ठीक कर दिया. लेकिन, अब ब्रजभान और परिवार के अन्य सदस्यों के मन में डर बैठ गया है। इसी वजह से पिता सोकेंद्र ने नागिन पर इनाम घोषित किया है. जो भी व्यक्ति सांप को पकड़ेगा, उसे पांच हजार रुपए इनाम दिया जाएगा.

डॉक्टरों ने बताया अंधविश्वास

जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. आर पी रावत का साफ कहना है कि गांववालों का अन्धविश्वास है। कर्स बार काटने वाला सांप कोई दूसरा भी हो सकता है। दो किलोमीटर चलकर कोई सांप कैसे किसी का पीछा कर सकता है। वहीं, लखनऊ चिडिय़ाघर के पशु चिकित्सक ब्रिजेन्द्र यादव ने बताया कि सांप जहरीला नहीं होगा। महज एक इत्तेफाक है कि उसने चार बार एक ही शख्स को काटा। वैसे भी मानसून में सांप के काटने की घटनाएं बढ़ जाती हैं।

Courtesy: Jagran.com

Categories: Regional