बिहार में 9 नदियां उफान पर, 17 जिलों के 1.8 करोड़ लोग चपेट में, अब तक 153 मौतें

बिहार में 9 नदियां उफान पर, 17 जिलों के 1.8 करोड़ लोग चपेट में, अब तक 153 मौतें
पटना/मुजफ्फरपुर.नेपाल में बारिश की रफ्तार के फिर जोर पकड़ने के चलते नॉर्थ बिहार की नदियां एक बार फिर उफान पर हैं। नौ बड़ी नदियां खतरे के निशान से ऊपर बह रही हैं। ललबकिया शुक्रवार को खतरे के निशान से नीचे उतरी तो शाम होते-होते पुनपुन खतरे के निशान को पार कर गई। पुनपुन के अलावा बागमती, कमला बलान, अधवारा, खिरोई, महानंदा, घाघरा, बूढ़ी गंडक और कोसी नदी लगातार लाल निशान से ऊपर बह रही है। डिजास्टर मैनेजमेंट डिपार्टमेंट के मुताबिक बाढ़ में अब तक 153 लोग जान गंवा चुके हैं। कुल 17 जिलों के 1.8 करोड़ लोग इसकी चपेट में है।गंडक ने बनाया रिकॉर्ड…
– सोन नदी का वाटर लेवल कोईलवर और पटना के मनेर में बढ़ रहा है। उधर, गंडक गोपालगंज के डुमरियाघाट में अपने नए रिकॉर्ड के साथ बह रही है। 2014 में यहां रिकॉर्ड 63.60 मीटर वाटर लेवर था। शुक्रवार को गंडक का वाटर लेवल 63.76 मीटर पर पहुंच गया है। हालांकि गुरुवार को गंडक 64.10 मीटर पर थी।
कटिहार में बरंडी नदी का बांध कटा, कई गांवों में बाढ़ का पानी
– शुक्रवार देर शाम रहटा पंचायत के हसेली के पास बरंडी नदी का थॉमस बांध टूटने से कई गांव में अफरा-तफरी मच गई। लोग घरों से जान बचा कर इधर-उधर भागते दिखे।
– उधर, श्रीकामत स्थित नहर को भी अज्ञात लोगों ने दुबारा काट दिया। बांध टूटने और नहर काटे जाने से एक दर्जन से ज्यादा गांवों के बाढ़ की चपेट में आने की आशंका है।
– इससे रहठा, हसेली, श्रीकामत, पिरमोकाम, सहित कई गांव में बाढ़ का पानी फैल जाएगा। लोग भाग कर ऊंची जगहों पर जा रहे हैं। दो साल पूर्व थॉमस बांध टूटा था। तब 600 घरों में पानी घुस गया था।
बागमती सीतामढ़ी में खतरे के निशान से 12 cm ऊपर
– बागमती सीतामढ़ी में खतरे के निशान से 12 सेमी, कमला बलान मधुबनी में 70 मीटर, अधवारा सीतामढ़ी में 1.75 मीटर, खिरोई दरभंगा में 1.38 मीटर, महानंदा पूर्णिया में 58 सेमी और कटिहार में 20 सेमी, बूढ़ी गंडक मोतिहारी में एक मीटर और कोसी सुपौल में खतरे के निशान से 61 सेमी ऊपर बह रही है।
– उधर, घाघरा सीवान और सारण में, गंडक मोतिहारी, गोपालगंज, मुजफ्फरपुर व हाजीपुर में, बूढ़ी गंडक मोतिहारी, मुजफ्फरपुर, समस्तीपुर व खगड़िया में, बागमती मुजफ्फरपुर, दरभंगा व सीतामढ़ी में और कोसी नदी खगड़िया और कटिहार में बढ़ रही है।
मुजफ्फरपुर के बाहरी इलाके डूबे, दरभंगा शहर के 24 मुहल्लों में घुसा बाढ़ का पानी
– नॉर्थ बिहार के 17 जिलों के 153 ब्लॉक की 1688 पंचायतों के 1.08 करोड़ लोग बाढ़ की चपेट में हैं। डिजास्टर मैनेजमेंट डिपार्टमेंट के मुताबिक अब तक 153 लोग जान गंवा चुके हैं। पिछले 24 घंटे में 34 लोगों की मौत हुई है।
– 1289 राहत शिविरों में 3.92 लाख लोग रह रहे हैं। डिस्ट्रिक्ट एडमिनिस्ट्रेशन के साथ एनडीआरएफ, एसडीआरएफ और सेना की टीम को रेस्क्यू वर्क में लगाया गया है। सीएम ने पूर्वी चंपारण के सुगौली व आसपास के क्षेत्रों में हेलीकॉप्टर से राहत सामग्री गिराने का निर्देश दिया है।
17 जिलों के 1.8 करोड़ लोग चपेट में, 153 मौतें
– अररिया में 30, वेस्ट चम्पारण में 23, सीतामढ़ी में 13 लोगों की मौत हुई है। किशनगंज, ईस्ट चम्पारण और सुपौल में 11-11 लोगों की जान गई है। मधेपुरा और पूर्णिया में 9-9, मधुबनी में 8, कटिहार में 7 लोगों की मौत हुई है। इसी तरह सहरसा, गोपालगंज और दरभंगा में 4-4, खगड़िया और शिवहर में 3-3, सारण में 2 और मुजफ्फरपुर में 1 शख्स की जान गई है।
21 को फिर होगा हालात का रिव्यू
– सीएम नीतीश कुमार 21 अगस्त को बाढ़ से नुकसान और राहत का फिर रिव्यू करेंगे। इसके आधार पर केंद्रीय मदद के लिए मेमोरेंडम भेजा जाएगा। उसके बाद केंद्रीय टीम नुकसान का जायजा लेने आएगी।
राहत और बचाव
– एनडीआरएफ :28 टीमें, 1110 जवान, 114 नावें।
– एसडीआरएफ : 16 टीमें, 446 जवान, 92 नावें।
– सेना :सात टुकड़ी, 630 जवान, 70 नावें।
– 4.64 लाख की आबादी सुरक्षित निकाली गई।
मुजफ्फरपुर :बूढ़ी गंडक के वाटर लेवल में बढ़ोतरी जारी। बाहरी इलाके डूबे। शनिवार को शहरी इलाके में प्रवेश की आशंका। मोतीपुर, मीनापुर, कांटी, मुशहरी, मुरौल व बंदरा के अलावा दोनों तटबंधों के आसपास अलर्ट जारी।
दरभंगा : बागमती का वाटर लेवल दो फीट बढ़ने से शहर के 24 मुहल्लों में घुसा पानी। 48 में से 11 वार्ड चपेट में।
भागलपुर : यूनिवर्सिटी एरिया से बरारी तक के निचले इलाके में पानी घुसा। रंगरा चौक के 7 स्कूल बंद। सुल्तानगंज के घोरघट में भी बाढ़ का पानी घुसा।
समस्तीपुर :बिथान और कल्याणपुर के बाद शाहपुर पटोरी व मोहनपुर भी डूबे।
Courtesy: Bhaskar.com
Categories: India

Related Articles