रेल हादसे के बाद फंसे 18 लोगों को बाहर निकालकर रिजवान पेश की मिसाल

रेल हादसे के बाद फंसे 18 लोगों को बाहर निकालकर रिजवान पेश की मिसाल

खतौली (उत्तर प्रदेश)। उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर जिले में शनिवार को हरिद्वार से चलने वाली ट्रेनें पटरी से उतर गईं, जिसमें बीस से ज्यादा लोगों की मौत हुई जबकि कई अन्य घायल हुए हैं। हादसे के बाद स्थानीय लोग बढ़ी संख्या में मदद के लिए घरों से बाहर आए। वहीं रिजवान ने 18 लोगों की जिंदगी बचाकर इंसानियत की मिसाल कायम की है।

 

रिजवान और उसके साथी फोटोग्राफर्स उसी जगत कॉलोनी में फोटो स्टुडियो चलाते हैं जहां शनिवार की देर शाम उत्कल एक्सप्रेस के डिब्बे पटरी से उतर गए। जब वे वर्ल्ड फोटोग्राफी डे की तैयारियों के लिए मीटिंग कर रहे थे तभी तेज चिल्लाहट की गहरी आवाज उन्हें सुनाई दी। जब तक वे इस आवाज के बारे में सोच ही रहे थे कि रिजवान के मित्र संदीप को उसके सहयोगियों ने फोन आया जिन्होने बताया कि ट्रेन के कोच पटरी से उतर गए हैं।

इसके बाद जब वे सभी मौके पर पहुंचे तो वहां का दृश्य देखकर आश्चर्यचकित हो गए। ट्रेन के कोच एक-दूसरे में घुसे हुए थे और फंसे यात्री मदद के लिए चिल्ला रहे थे। ट्रेन के दो डिब्बों में से एक पिंटू चौधरी के घर की दीवारों में फंसा हुआ था जबकि एक नजदीकी चाय की दुकान खत्म हो गई और चार ग्राहकों की मौत हो गई थी।

संदीप ने इस भयानक हादसे को विस्तार से बताया और दावा किया कि वे अभी भी बॉगी के नीचे फंसे हुए हैं। उन्होने आगे कहा, हम हर रोज ट्रेनों को देखते हैं लेकिन आज क्या हुआ..मेरे पास बताने के लिए शब्द नहीं हैं। मैं अभी भी सदमे में हूं।

रिजवान ने इस बीच मलबे से कम से कम 18 लोगों को बाहर निकाला। इनमें से कई लोगों के चेहरे भी स्पष्ट नहीं दिख रहे थे।

प्रेरणा झारखंड के टाटा नगर में ट्रेन में चढ़ी थी। ट्रेन हादसे के बाद उसने जान बचाने के लिए उनका धन्यवाद किया। वहीं बीटेक के एक छात्र ने हादसे को याद करते हुए बताया कि कैसे बहुत तेज धमाके के बाद ट्रेन रुकी। उसके चार साथी यात्री सीट के नीचे फंसे हुए थे। मैं असहाय भगवान से प्रार्थना कर रहा था और मैने उन्हें मरते देखा।

प्रेरणा किसी तरह मलबे से बाहर आई तो इसके बाद एक सामाजिक कार्यकर्ता पंकज चौधरी उसे पास के एक घर में ले गए, जहां से उन्होने दिल्ली अपने रिश्तेदारों को फोन किया। प्रेरणा ने कहा, भगवान का शुक्रिया मैं अभी भी जीवित हूं।

आसमा और उनकी बहन उजमा भाग्यशाली रहीं कि सहारनपुर में ट्रेन से उतर गए थे। हालांकि उनकी चाची करिश्मा आगरा में ट्रेन में बैठी थीं, उनका अब तक पता नहीं चल सका है।

परमेंद्र अपनी पत्नी और छोटी बेटी के साथ यमुनानगर से अपने कारखाने से वापस लौट रहे थे, वे अभी घायल हैं। ओड़िशा में ट्रेन में चढ़ने वाले परमेंद्र ने कहा, मैने अपने नौकरी के सहयोगियों को बताया है और वे मुझे यमुनानगर ले जाने के लिए आ रहे हैं।

 

इस हादसे के बाद राहत व बचाव कार्य में मदद के लिए स्थानीय लोग बड़ी संख्या में बाहर आए। रिजवान और उसके दोस्तों ने बचाव कार्य के लिए अंधेर में तीन जेनरेटर की व्यवस्था भी की। दुर्गा टेंट हाउस के मालिक ने मुफ्त में जेनेरेटर उपलब्ध कराया और रिजवान ने अपने दोस्तों के साथ डीजल के लिए पैसा इकठ्ठा किया।

Courtesy: nationaldastak.

Categories: Regional

Related Articles