गुरमीत राम रहीम को दस साल की कैद, 15 साल बाद मिला साध्वी को इंसाफ

साध्वी के साथ यौन शोषण में दोषी डेरा सिरसा प्रमुख गुरमीत राम रहीम को शुक्रवार को दोषी ठहराए जाने के बाद आज सोमवार को दस सजा सुनाई है। इसके लिए पंचकूला से सीबीआई स्पेशल कोर्ट के जज जगदीप सिंह को विशेष विमान में पूरी सुरक्षा के साथ रोहतक की सुनारिया जेल लाया गया था। गुरमीत राम रहीम को सजा सुनाने के लिए रोहतक जेल में ही अदालत लगी थी। सजा सुनाए जाने के बाद सिरसा में दो गाड़ियों को आग के हवाले किये जाने की भी सूचना आई थी।

सजा पर बहस करने के लिए दोनों पक्षों को दस-दस मिनट का समय दिया था। सीबीआई के वकीलों ने राम रहीम के अपराध को गंभीर मानते हुए कहा कि रामरहीम को आजीवन कारावास की सजा की मांग की तो वहीं बचाव पक्ष के वकीलों ने गुरमीत राम रहीम के समाज सेवा के कामों का हवाला देते हुए कहा कि उन्हें कम से कम सजा दी जाए। इसके अलावा बाबा के वकीलों ने राम रहीम के खराब स्वास्थ्य का भी हवाला दिया गया था। सजा सुनाने के दौरान गुरमीत राम रहीम कोर्ट रूम में रो रहे थे।
सीबीआई की विशेष अदालत ने बाबा को दोषी मानते हुए बाबा को सीबीआई की ओर से अधिकतम सजा देने की मांग को मान ली। सजा को सुनने के बाद बाबा कोर्ट रूम में जिस कुर्सी मे बैठे थे उस के उठकर नीचे जमीन में बैठ कर रोने लगे थे। बाबा को तीन धाराओं 376 (दुष्कर्म), 506 (डराने-धमकाने) और 509 (महिला की इज्जत से खिलवाड़) के तहत दोषी मानते हुए 10 साल की सजा सुनाई है।
25 अगस्त को अदालत के फैसले के बाद हुई हिंसा सजा सुनाए जाने के बाद फिर से न भड़के इसको देखते हुए पंजाब—हरियाणा समेत 6 राज्यों में हाईअलर्ट जारी किया गया है। हरियाणा के सभी स्कूलों में छुट्टी की घोषणा की है। सिरसा, पंचकूला और रोहतक में इंटरनेट सेवाओं को भी 29 अगस्त सुबह 11:30 बजे तक के लिए स्थगित कर दी गई हैं। रोहतक में किसी भी उपद्रवी को देखते ही गोली मारने के आदेश भी जारी किए गए हैं।

Categories: India

Related Articles