मुजफ्फरनगर में ठाकुर और दलितों के बीच खूनी संघर्ष, बाबा साहब की प्रतिमा तोड़ी

मुजफ्फरनगर। उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में दलितों और ठाकुरों के बीच संघर्ष का मामला सामने आया है। दलित युवतियों के साथ छेड़खानी के बाद हुए इस जातीय संघर्ष में 18 लोग घायल हो गए।

मामला बुधवार रात का है। थाना रतनपुर के ठाकुर बहुल गांव भूपखेड़ी के गुरु रविदास आश्रम में गुरु समनदास के जन्मदिन के उपलक्ष्य में सत्संग चल रहा था। सत्संग के दौरान ठाकुर पक्ष के उपद्रवियों ने दलित युवतियों के साथ छेड़खानी शुरू कर दी। इसे लेकर दलितों ने विरोध किया तो ठाकुर पक्ष के लोग दबंगई पर उतर आए और फायरिंग व पथराव कर दिया।

 

इसपर दलित समुदाय के लोगों ने भी पथराव शुरू कर दिया, जिसमें 18 लोग घायल हुए बताए जा रहे हैं। मौके पर पहुंची पुलिस ने लाठियां फटकार कर भीड़ को खदेड़ा और दो लोगों को हिरासत में ले लिया। पुलिस ने दोनों पक्षों को समझाकर रात में ही मामला शांत करा दिया। लेकिन गुरुवार की सुबह फिर दोनों पक्षों में पथराव हुआ।

गुरुवार को ठाकुर पक्ष ने फायरिंग कर ईंटें बरसाना शुरू कर दीं जिसके जवाब में दलितों ने भी पथराव कर दिया। इस बीच वहां लगी बाबा साहब भीमराव अंबेडकर की प्रतिमा को भी क्षतिग्रस्त कर दिया गया। बाबा साहब की प्रतिमा क्षतिग्रस्त किए जाने के बाद दलित महिलाएं मौके पर ही धरने पर बैठ गईं व आरोपियों पर कार्रवाई की मांग करने लगीं।

 

पुलिस ने घायलों को खतौली के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में भर्ती कराया, जहां पर गंभीर रुप से घायलों को जिला अस्पताल रेफर कर दिया गया। पुलिस ने ठाकुर पक्ष के घायलों का खतौली अस्पताल में इलाज कराने से इंकार कर दिया, जिसपर ठाकुर पक्ष के लोग खतौली में ही इलाज करने पर अड़ गए और हंगामा खड़ा कर दिया।

Courtesy: nationaldastak.
Categories: Crime

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*