मोदी सरकार में शिक्षा मंत्रालय का बुरा हाल, विज्ञापन में कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद को Low मिनिस्टर लिखा

मोदी सरकार में शिक्षा मंत्रालय का बुरा हाल, विज्ञापन में कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद को Low मिनिस्टर लिखा

जब देश के मानव संसाधन विकास मंत्रालय का ही यह हाल हो कि लिखने पढ़ने में तमाम गलतियां हों, स्पेलिंग से लेकर समझ की कमी हो, तो फिर उनसे शिक्षा के बेहतरी की क्या उम्मीद की जाती है।

7 अक्टूबर को आईआईटी गांधीनगर कैंपस के उद्घाटन के अवसर पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, मुख्यमंत्री विजय रूपानी के आगमन का संदेश देते हुए मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने एक विज्ञापन जारी किया, इसमें PM और CM के साथ ही केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद को भी बुलाया गया था।

उनकी पोर्टफोलियो में लिखा गया यूनियन मिनिस्टर ऑफ इलेक्ट्रॉनिक्स एंड आईटी, लो एंड जस्टिस (LOW AND JUSTICE)। लॉ एंड जस्टिस(LAW AND JUSTICE) को लो एंड जस्टिस करके अपनी शिक्षा की समझ का निम्न स्तर दिखाते मानव संसाधन मंत्रालय के इस पोस्टर में और भी तमाम कमियां हैं।

खुद प्रकाश जावड़ेकर के पोर्टफोलियो में अपने ही मंत्रालय की गलत स्पेलिंग लिखी जाती है, रिसोर्स की स्पेलिंग न लिख सकने वाले (RESOURCE की जगह RESOUREC) इस मंत्रालय से अच्छी शिक्षा की समझ के साथ बेहतर रिसोर्स उपलब्ध कराने की उम्मीद करना ही बेमानी है।

गौरतलब है कि जब से मोदी सरकार बनी है तब से मानव संसाधन विकास मंत्री बनने वाले लोग हमेशा विवादों में ही रहे हैं। जब तक स्मृति ईरानी ने इस मंत्रालय को संभाला, हर रोज किसी न किसी वजह से विवादों में आ जाती थी। अब प्रकाश जावड़ेकर के नेतृत्व में भी यह मंत्रालय अपनी थू-थू करवाने में लगा हुआ है।

अख़बार में छपे इस विज्ञापन के लिए मंत्रालय इसलिए भी जिम्मेदार है क्योंकि ऐसे विज्ञापन को अक्षरसह मंत्रालय के दफ्तर से भेजा जाता है, ये सर्वविदित है।

Courtesy: boltahindustan

Categories: India

Related Articles