Nkorea पर पहला बम गिराने तक डिप्लोमैटिक कोशिशें जारी रहेंगी: अमेरिका

Nkorea पर पहला बम गिराने तक डिप्लोमैटिक कोशिशें जारी रहेंगी: अमेरिका
वॉशिंगटन. अमेरिका और नॉर्थ कोरिया के बीच हालात बिगड़ते जा रहे हैं। यूएस के विदेश मंत्री रेक्स टिलरसन ने रविवार को कहा कि नॉर्थ कोरिया पर पहला बम गिराने तक मामले को हल करने के लिए डिप्लोमैटिक कोशिशें जारी रहेंगी। टिलरसन ने ये भी कहा कि प्रेसिडेंट डोनाल्ड ट्रम्प ने तनाव खत्म करने के लिए यही इंस्ट्रक्शन दिया है। बता दें कि नॉर्थ कोरिया के न्यूक्लियर वेपन्स और मिसाइल प्रोग्राम को लेकर उसके और यूएस के बीच हाल के हफ्तों में तनाव काफी बढ़ गया है। ट्रम्प के ट्वीट से जुड़े सवाल पर टिलरसन ने दिया जवाब…
– न्यूज एजेंसी के मुताबिक, टिलरसन ने सीएनएन से बातचीत में नॉर्थ कोरिया को यह मैसेज दिया। उनसे यह सवाल किया गया कि ट्रम्प ने हाल ही में ट्वीट किया था कि टिलरसन लिटिल रॉकेट मैन (नॉर्थ कोरिया का तानाशाह किम जोंग-उन) के साथ बातचीत में अपना वक्त बरबाद कर रहे हैं। टिलरसन ने कहा, “ट्रम्प ने मुझसे साफ तौर पर कहा है कि डिप्लोमैटिक कोशिशें जारी रखो।”
– बता दें कि 3 सितंबर को नॉर्थ कोरिया ने छठा न्यूक्लियर टेस्ट (हाइड्रोजन बम का टेस्ट) किया था। इसके बाद 15 सितंबर को उसने जापान के ऊपर से इंटरकॉन्टिनेंटल मिसाइल गुजारी थी। इससे अमेरिका बेहद नाराज है।
– अमेरिका भी कोरियाई पेनिनसुला के ऊपर से 3 बार अपने B-1B बॉम्बर्स उड़ा चुका है। इन बॉम्बर्स ने गुआम बेस से उड़ान भरी थी। अमेरिकी बॉम्बर्स के साथ साउथ कोरिया और जापान के फाइटर प्लेन्स ने भी उड़ान भरी थी।
गुआम एयरबेस पर मिसाइलों की बौछार कर देंगे: नॉर्थ कोरिया
– उधर, नॉर्थ कोरिया ने कहा कि अमेरिका इसी तरह से उकसावे वाली बयानबाजी करता रहा तो उसके गुआम एयरबेस को मिसाइलों से तबाह कर देंगे। बता दें कि गुआम पैसिफिक ओशन में अमेरिका का एयरबेस है। नॉर्थ कोरिया मानता है कि यूएस इसका इस्तेमाल उसके देश पर हमले के लिए कर सकता है।
US नॉर्थ कोरिया को हैंडल करने में रहा है फेल
– नॉर्थ कोरियाई सरकार (DPRK) ने अमेरिका को जो धमकी दी है, वह डीपीआरके इंस्टीट्यूट के अमेरिकन स्टडीज के रिसर्चर किम क्वांग हाक ने लिखी है।
– किम ने ये भी लिखा, “जैसे ही नॉर्थ कोरिया कोई टेस्ट करता है, ट्रम्प और उनके ग्रुप के लोग ट्विटर पर बयानबाजी शुरू कर देते हैं। अमेरिका बीते 25 साल से नॉर्थ कोरिया को हैंडल करने में फेल रहा है। कभी वो मिलिट्री ऑप्शन की बात कहता है, तो कभी हमें पूरी तरह से तबाह कर देने की धमकी देता है।”
US की एक्सरसाइज से पहले NKorea लॉन्च कर सकता है मिसाइल
– अमेरिका और साउथ कोरिया की ज्वाइंट नेवल एक्सरसाइज से पहले नॉर्थ कोरिया बैलिस्टिक मिसाइल लॉन्च करने की तैयारी कर रहा है। डोंगा इल्बो डेली न्यूजपेपर ने एक गवर्नमेंट सोर्स के हवाले से यह खबर दी है। अमेरिका और साउथ कोरिया के बीच 16 से 26 अक्टूबर तक नेवल एक्सरसाइज होनी है।
– रिपोर्ट में कहा गया है कि यह ह्वासॉन्ग-14 इंटर-कॉन्टिनेंटल बैलिस्टिक मिसाइल (आईसीबीएम) हो सकती है, जिसकी रेंज में अमेरिका का अलास्का आ सकता है। यह मिसाइल मीडियम रेंज वाली ह्वासॉन्ग-12 भी हो सकती है।
नॉर्थ कोरिया के 6 न्यूक्लियर टेस्ट
– नॉर्थ कोरिया 2006, 2009, 2013 और 2016 में न्यूक्लियर बम की टेस्टिंग कर चुका है।
– 9 अक्टूबर, 2006 – पहली बार जमीन के अंदर किया न्यूक्लियर टेस्ट। यूएस से एटमी वॉर का बताया था खतरा।
– 25 मई, 2009 – दूसरी बार किया एटमी टेस्ट।
– 13 जून, 2009 – नॉर्थ कोरिया ने कहा कि वो यूरेनियम एनरिचमेंट करेगा। इसे न्यूक्लियर वेपन्स और प्लूटोनियम बेस्ड रिएक्टर बनाने की संभावना माना गया।
– 11 मई, 2010 – न्यूक्लियर फ्यूजन रिएक्टर बनाने का दावा किया। आशंका जताई गई कि नॉर्थ कोरिया ज्यादा पावरफुल बम बनाएगा।
– 13 फरवरी, 2013 – तीसरी बार न्यूक्लियर टेस्ट किया।
– 10 दिसंबर, 2015 – तानाशाह उन का दावा- हासिल की हाइड्रोजन बम टेस्ट की कैपिबिलिटी।
– 6 जनवरी, 2016 – हाइड्रोजन बम का टेस्ट किया।
– सितंबर, 2016 – पांचवां एटमी टेस्ट किया।
– 3 सितंबर, 2017 – छठा एटमी टेस्ट किया। ये हाइड्रोजन बम था।
Courtesy: Bhaskar
Categories: International

Related Articles