गुजरात में ‘न खाउंगा न खाने दूंगा’ की खुली पोल, BJP ने 1 करोड़ देकर खरीदा पाटीदार नेता, EC पर उठे सवाल

गुजरात में ‘न खाउंगा न खाने दूंगा’ की खुली पोल, BJP ने 1 करोड़ देकर खरीदा पाटीदार नेता, EC पर उठे सवाल

गुजरात विधानसभा चुनाव में सियासी हलचलें काफी तेज हो गई हैं। रोजाना राजनीतिक पारा काफी ऊपर-नीचे जा रहा है।

इधर भाजपा अपने गढ़ में सबसे बुरे दौर से गुजर रही है। वहीं कांग्रेस को एक नई उम्मीद दिखाई दे रही है।

साल 2019 में होने वाले आम चुनावों में गुजरात विधानसभा के नतीजे काफी अहम भूमिका अदा कर सकते हैं।

अगर कांग्रेस गुजरात में जीतकर सरकार बनाती है तो भाजपा ख़ासकर प्रधानमंत्री मोदी के सामने एक बड़ी चुनौती होगी।

गुजरात विधानसभा की तारीखों का एलान नहीं किया गया है। हिमाचल विधानसभा के साथ तारीखों का एलान किया जाता था लेकिन इस बार गुजरात की तारीखों को टाल दिया गया।

इसपर चुनाव आयोग की काफी आलोचना हो रही है। बीजेपी को फायदा पहुंचाने के लिए चुनाव अपनी विश्वसनीयता को खत्म कर रहा है। ऐसे आरोप विपक्षी दलों द्वारा लगाए जा रहे हैं।

आज गुजरात से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। मेहसाणा के पूर्व पाटीदार आरक्षण समिति के अध्यक्ष नरेंद्र पटेल ने भाजपा पर आरोप लगाए हैं।

नरेंद्र पटेल ने प्रेस कांफ्रेंस करते हुए कहा कि, भाजपा ने 1 करोड़ का लालच देकर हमें पार्टी में शामिल करने की कोशिश की।

नरेंद्र पटेल ने 10 लाख नगदी को भी मीडिया के सामने रखा। जो टोकन के तौर पर दी गई थी। बाकी के 90 लाख बाद में मिलने वाले थे।

आज प्रधानमंत्री गुजरात दौरे पर थे। वडोदरा में कई योजनाओं की शुरूआत की।

प्रधानमंत्री के दौरे से पहले कई पाटीदार नेताओं को भाजपा में शामिल किया गया ।

जिस कारण कई नेताओं का आरोप है कि, चुनाव आयोग ने इसी लिए तारीखों का एलान नहीं किया।

अगर चुनावों का एलान हो जाता तो पैसों का खुलेआम नहीं चल पाता।

वहीं इस प्रकरण के बाद प्रधानमंत्री की न खाऊंगा न खाने दूंगा वाली बात भी कमजोर होती नजर आ रही है।

आपको बता दें कि, पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने गुजरात चुनाव में कांग्रेस को समर्थन देने की बात कही है।

 

Courtesy: boltahindustan.

Categories: India

Related Articles