अंपायर ने तो टीम इंडिया को हरा ही दिया था, लेकिन ‘इस विरोधी’ ने पलट दी बाज़ी !

अंपायर ने तो टीम इंडिया को हरा ही दिया था, लेकिन ‘इस विरोधी’ ने पलट दी बाज़ी !

नई दिल्ली, [जागरण स्पेशल]। भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच खेले गए दूसरे वनडे मैच को टीम इंडिया ने 06 विकेट से जीतकर सीरीज़ में 1-1 की बराबरी कर ली। इस मैच में एक समय ऐसा भी आया जब अंपायर का एक फैसला भारतीय टीम के लिए बड़ी मुश्किलें खड़ी कर सकता था, लेकिन कहते है न कि लड़ने वाले की ही जीत होती है और ऐसा हुआ भी। इसी वजह से सीरीज़ का तीसरा और आखिरी मैच निर्णायक भी बन गया है। तो चलिए आपको बताते हैं कौन सा था अंपायर का वो फैसला और फिर किसने पलट दी ये बाज़ी?

‘इस विरोधी’ ने पलटी बाजी

भारतीय पारी का 21 ओवर फेंका जाना था। केन विलियमसन ने गेंद कॉलिन मुनरो को थमाई। मुनरो के सामने स्ट्राइक पर थे टीम इंडिया के ओपनर शिखर धवन। धवन गेंद का सामना करने के लिए तैयार और मुनरो ने लेग स्टंप के बाहर गेंद फेंकी धवन के पास से गेंद विकेट कीपर लाथम के हाथों में गई और फिर गेंदबाज़ और विकेटकीपर ने जोरदार अपील की। इस अपील के बाद अंपायर ने भी धवन को आउट दे दिया। धवन ने तुरंत DRS का सिग्नल दिया और दूसरे छोर पर खड़े कार्तिक की तरफ चल पड़े। DRS में ये साफ हो गया कि गेंद धवन के बल्ले से नहीं टकराई है और अंपायर को अपने फैसले को बदलना पड़ेगा। गेंद न तो धवन से बल्ले से टकराकर निकली थी और न ही उनके शरीर के किसी अंग से तो DRS के फैसले के बाद उस गेंद को वाइड भी करार दिया गया। DRS की ये प्रणाली न्यूज़ीलैंड की टीम के लिए एक और विरोधी साबित हुई अगर इस सीरीज़ में DRS नहीं होता तो शायद इस मैच का निर्णय कीवी टीम के पक्ष में जा सकता था।

शिखर के खास रहा ये फैसला

जिस समय शिखर धवन ने अंपायर के फैसले के खिलाफ DRS लिया तब वो 46 रन पर बल्लेबाज़ी कर रहे थे। लेकिन जब फैसला उनके पक्ष में आया तो उन्होंने अपने वनडे करियर का 22वां अर्धशतक लगा दिया। 68 रन की इस पारी में शिखर धवन के बल्ले से 5 चौके और 2 छक्के भी निकले और उन्होंने 84 गेंदो का सामना किया।

धवन-कार्तिक ने संभाली पारी

इस मुकाबले में भारत की तरफ से शिखर धवन और दिनेश कार्तिक ने सबसे बड़ी साझेदारी निभाई। एक समय टीम इंडिया मुश्किल में आ गई थी जब भारत ने 79 रन के स्कोर पर विराट कोहली के रुप में अपना दूसरा विकेट गंवा दिया था। लेकिन कार्तिक और धवन तो कुछ और ही सोच रहे थे, दोनों ने मिलकर 66 रन की पार्टनरशिप कर मैच को भारत की तरफ मोड़ दिया।

100वें मैच में जीता भारत

भारत और न्यूज़ीलैंड के बीच पुणे में खेला गया ये वनडे मैच दोनों टीमों के बीच 100 वनडे मैच भी रहा। इस मैच को जीतकर भारत ने न्यूज़ीलैंड के खिलाफ जीत का अर्धशतक भी लगा दिया है। 100 में से 50 मैच भारत ने जीते हैं तो वहीं कीवी टीम को 44 मैच में जीत मिली है। वहीं इन दोनों टीमों के बीच 1 मैच टाई रहा है तो 5 मुकाबलों में कोई निर्णय नहीं निकला है।

Courtesy:dainik jagran

Categories: Sports

Related Articles