मनमोहन गुजरात में कारोबारियों से मिलेंगे, नोटबंदी को बताया मोदी की बड़ी भूल

मनमोहन गुजरात में कारोबारियों से मिलेंगे, नोटबंदी को बताया मोदी की बड़ी भूल

मनमोहन ने ये भी कहा कि नोटबंदी से समाज के कमजोर तबके को सबसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा।

 

नई दिल्ली.मनमोहन सिंह मंगलवार को चुनाव प्रचार के लिए गुजरात जाएंगे। वे यहां जीएसटी और दूसरे मुद्दे को लेकर कारोबारियों और मीडिया से बात करेंगे। सोमवार को मनमोहन ने कहा था, “मोदी सरकार को नोटबंदी को सबसे बड़ी भूल मानना चाहिए। इससे आर्थिक असमानता बढ़ेगी। इकोनॉमी को पटरी पर लाने के लिए जरूरी है कि आपसी बातचीत से रास्ता निकाला जाए।”

नोटबंदी ने इकोनॉमिक ग्रोथ धीमी की

– न्यूज एजेंसी के मुताबिक मनमोहन ने कहा, “नोटबंदी ने साबित कर दिया है कि वह नुकसान करने वाली इकोनॉमिक पॉलिसी साबित हुई। उसने केवल आर्थिक मोर्चे पर ही नहीं सोशल इंस्टीट्यूशनल लेवल पर भी नुकसान पहुंचाया।”
– “इकोनॉमी को किस तरह नुकसान पहुंचा, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि इकोनॉमिक ग्रोथ धीमी हुई। नोटबंदी से समाज के कमजोर तबके को सबसे ज्यादा नुकसान उठाना पड़ा।”
– “जानकारों और रिपोर्ट्स में जितना बताया गया, उससे कहीं ज्यादा बिजनेस को नुकसान हुआ। नोटबंदी के फैसले से छोटे और मंझोले कारोबारियों को नुकसान हुआ।”
– “सरकार के फैसले से लोगों को अपनी नौकरियां गंवानी पड़ीं। नए जॉब भी नहीं आ रहे।”
लंबे वक्त तक होने वाले प्रभावों को लेकर चिंतित
– मनमोहन के मुताबिक, “मैं नोटबंदी के लंबे वक्त तक रहने वाले प्रभावों को लेकर
चिंतित हूं। हालिया गिरावट के बाद जीडीपी में सुधार हो सकता है लेकिन असमानता बढ़ना आर्थिक विकास के लिए खतरा है। ये असमानता नोटबंदी ने ही बढ़ाई है।”
– “ये अभी तक साफ नहीं है कि कैशलेस इकोनॉमी से छोटे कारोबारियों को फायदा होगा या नहीं। जबकि ये ही हमारी प्रायोरिटी होना चाहिए।”
नोटबंदी की बरसी को ब्लैक डे के रूप में मनाएगी कांग्रेस
– 8 नवंबर, 2017 को नोटबंदी के एक साल पूरे हो रहे हैं। इसे कांग्रेस ब्लैक डे के रूप में मना रही है। इस मौके पर राहुल गांधी सूरत जा सकते हैं।
– नोटबंदी के एक साल को बीजेपी ब्लैकमनी डे के रूप में मना रही है।
Courtesy: Bhaskar
Categories: Politics