‘पद्मावती’ मामले में करणी सेना ने रखी अब नई शर्त, भंसाली को मिलेगी राहत

‘पद्मावती’ मामले में करणी सेना ने रखी अब नई शर्त, भंसाली को मिलेगी राहत

मुंबई। पद्मावती की रिलीज़ स्थगित होने के बाद अब विरोधियों के सुर भी बदलने लगे हैं। विरोध में सबसे आगे रहने वाली करणी सेना के तेवर ढीले पड़े हैं और अब उन्होंने सशर्त समझौते की पहल की है। मेकर्स के लिए ये राहत भरी ख़बर हो सकती है।

रिपोर्ट्स के मुताबिक़, करणी सेना ने एक प्रस्ताव रखा है, जिसमें कहा गया है कि पद्मावती की स्पेशल स्क्रीनिंग मेवाड़ के राजघरानों के लिए करवायी जाए। अगर वो फ़िल्म को पास कर देंगे तो करणी सेना अपना आंदोलन वापस ले लेगी। बताते चलें कि राजस्थान का राजपूत संगठन करणी सेना एलान के वक़्त से ही ‘पद्मावती’ का विरोध कर रहा है। जयपुर में फ़िल्म की शूटिंग के दौरान सेना के सदस्यों ने जयगढ़ क़िले में फ़िल्म के सेट पर तोड़फोड़ की थी और भंसाली के साथ हाथापाई की। इसके बाद भंसाली ने वहां से पैकअप करके महाराष्ट्र में सेट लगाकर शूटिंग की, मगर हंगामे जारी रहे।

 

सेना का कहना है कि फ़िल्म में दिल्ली सल्तनत के सुल्तान अलाउद्दीन खिलजी और चितौड़ की रानी पद्मिनी के बीच एक ड्रीम सीक्वेंस में प्रेम-प्रसंग दिखाया जा रहा है, जो राजपूताना शान और इतिहास के ख़िलाफ़ है। हालांकि संजय लीला भंसाली शुरू से इस तरह के किसी दृश्य से इंकार करते रहे हैं और कुछ दिन पहले उन्होंने एक वीडियो जारी करके इस बात की पुष्टि की थी कि फ़िल्म में ‘पद्मावती’ और खिलजी के बीच प्रेमालाप जैसा कोई सीन नहीं है।

Courtesy: Jagran.com
Categories: Entertainment

Related Articles