राहुल के साथ दोस्ती का दम भरने वाले अखिलेश ने गुजरात चुनाव से पहले लिया बड़ा फैसला

राहुल के साथ दोस्ती का दम भरने वाले अखिलेश ने गुजरात चुनाव से पहले लिया बड़ा फैसला

लखनऊ। गुजरात में चुनावी दंगल शुरू हो चुका है। कांग्रेस और बीजेपी इस चुनाव को जीतने के लिए एड़ी-छोटी का जोर लगाये हुए हैं। इस कड़ी समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव गुजरात में अपने प्रत्याशी के समर्थन में 4 दिन की चुनावी सभा करने जा रहे हैं।

माना जा रहा था कि अखिलेश बीजेपी को हराने के लिए कांग्रेस के साथ जाएंगे लेकिन फिलहाल वो सिर्फ अपने प्रत्याशी के पक्ष में सभा करने जा रहे हैं। बता दें कि यूपी विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव और कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी की दोस्ती सामने आई थी।

हाल ही अखिलेश यादव ने खुद कहा था कि वो बीजेपी को मात देने के लिए कांग्रेस का प्रचार करेंगे। लेकिन अभी तक पार्टी की तरफ से सिर्फ उनके सपा प्रत्याशियों के प्रचार की बात ही सामने आई है।अखिलेश यादव 4 से 7 दिसम्बर तक गुजरात में रहेंगे। सपा ने गुजरात में अपने पांच प्रत्याशी उतारे हैं। उनकी पहली चुनावी सभा 4 दिसम्बर को जामनगर में होगी।

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता राजेंद्र चौधरी ने बताया कि राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अखिलेश यादव ने कहा है कि वे बीजेपी की सांप्रदायिक और विघटनकारी राजनीति के विरूद्ध धर्म निरपेक्ष और लोकतांत्रिक ताकतों को बल देने के लिए गुजरात की जनता का आह्वान करेंगे। वह बताएंगे कि बीजेपी किसान, नौजवान, अल्पसंख्यक और विकास विरोधी है। इसने यूपी में सपा सरकार की सभी जनहित की योजनाओं को बंद कर दिया है।

पार्टी के मुख्य प्रवक्ता ने कहा कि बीजेपी ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को गुजरात में अपना स्टार प्रचारक बनाया है। योगी जी उत्तर प्रदेश का काम-काज छोड़कर जनता को गुमराह करने गुजरात पहुंच गए है। अखिलेश यादव गुजरात की जनता को बताएंगे कि उत्तर प्रदेश में बीजेपी ने जनता से किए गए चुनावी वादों में एक भी वादा पूरा नहीं किया है।

अखिलेश यादव ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए कहा कि वो हमेशा उनपर परिवाद का आरोप लगाती है लेकिन अमेरिकी राष्ट्रपति की बेटी के स्वागत में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी हाथ बांधे पलक-पांवड़े बिछाते दिखाई देते हैं। यह विरोधाभास की अजीब स्थिति है।

Courtesy: puridunia.

Categories: Politics

Related Articles