राहुल गांधी का मोदी से सवाल- गुजरात पर बढ़ते कर्ज की सजा जनता क्यों चुकाए

राहुल गांधी का मोदी से सवाल- गुजरात पर बढ़ते कर्ज की सजा जनता क्यों चुकाए

नई दिल्ली. गुजरात विधानसभा चुनाव के पहले फेज की वोटिंग 9 दिसंबर को होनी है। इससे पहले राहुल गांधी ने नरेंद्र मोदी पर हमले तेज कर दिए हैं। गुरुवार को उन्होंने गुजरात पर लगातार बढ़ते कर्ज को लेकर सवाल खड़े किए हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा- “1995 में गुजरात पर 9183 करोड़ रुपए का कर्ज था, जो 2017 तक बढ़कर 2,41,000 करोड़ रुपए हो गया। यानी हर गुजराती पर 37 हजार करोड़ का कर्ज। मोदी जी बताइए आपके वित्तीय कुप्रबंधन और पब्लिसिटी की सजा गुजरात की जनता क्यों चुकाए।” बता दें कि बुधवार को राहुल ने गुजरात की बीजेपी सरकार पर वादा खिलाफी का आरोप लगाया था। गुजरात में दो फेज में चुनाव होना है। 9 के बाद 14 दिसंबर को वोट डाले जाएंगे। रिजल्ट 18 दिसंबर को आएगा।

नरेंद्र मोदी से रोज एक सवाल पूछ रहे हैं राहुल

– राहुल ने बुधवार को भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ट्वीट कर सवाल पूछे थे। उन्होंने पूछा था कि आपने 2012 में वादा किया था कि 50 लाख नए घर देंगे। लेकिन 5 साल में सिर्फ 4.72 लाख घर बनाए। मोदी जी, बताइए कि क्या ये वादा पूरा होने में 45 साल और लगेंगे?”

एक सिंड्रोम के शिकार हैं राहुल: बीजेपी

– इस पर बीजेपी प्रवक्ता सुधांशु त्रिवेदी ने कहा कि राहुल गांधी एक सिंड्रोम ‘सावन के अंधे को सब हरा हरा ही दिखता है।’ के शिकार हैं। 22 साल पहले जब कांग्रेस की सरकार थी तो उन्होंने गुजरात का इस्तेमाल किया।

गुजरात दौरे पर हैंराहुल

– राहुल गांधी गुरुवार को गुजरात में थे। यहां उन्होंने एक रैली में मोदी सरकार को राफेल डील नोटबंदी, जीएसटी और नरेगा जैसे मुद्दों पर घेरा।

उन्होंने कहा- “कुछ गांवों के किसान नर्मदा का पानी मांग रहे हैं। उन्हें नहीं मिल रहा। किसानों की जमीन छीनकर नैनो फैक्ट्री को दी जा रही है। मोदीजी लंबे-लंबे भाषण करते हैं। वे भाषणों में ये क्यों नहीं कहते कि कांग्रेस मनरेगा में एक हजार रु. देती थी, मैंने 1500 का वादा किया था लेकिन 600 रु. मिल रहे हैं। मोदीजी ने 8 नवंबर को नोटबंदी की, पूरे देश को लाइन में लगा दिया। लाइन में कोई गुजरात का बड़ा उद्योगपति दिखा? बैंक के अंदर सूट-बूट वाले पीछे के दरवाजे से ब्लैक मनी को बदल दिया गया।”

गुजरात में कोई काम बिना रिश्वत के नहीं होता

– “मोदीजी ने महिलाओं से पैसा छीना, किसानों से बीज का पैसा छीन लिया और छोटे उद्योग धंधे बंद कर दिया। गुजरात में कोई काम बिना भ्रष्टाचार के होता है?”
– “35 हजार करोड़ की टाटा नैनो फैक्ट्री में कितने लोगों को रोजगार मिला? किसान का कर्ज माफ करने का काम में 10 दिन में करके दिखा दूंगा।”

Courtesy: Bhaskar

Categories: India

Related Articles