राहुल गांधी के पक्ष में बोले शत्रुघ्न सिन्हा, नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर मारा ‘वन मैन शो’ और ‘टू मैन आर्मी’ का ताना

राहुल गांधी के पक्ष में बोले शत्रुघ्न सिन्हा, नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर मारा ‘वन मैन शो’ और ‘टू मैन आर्मी’ का ताना

भाजपा सांसद और पूर्व केंद्रीय मंत्री शत्रुघ्न सिन्हा ने एक बार फिर से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह पर निशाना साधा है। राहुल गांधी के कमान संभालने पर शहजाद पूनावाला के लिए ‘घड़ियाली आंसू’ बहाने को लेकर भाजपा नेताओं की कड़ी आलोचना भी की है। अभिनेता से नेता बने शत्रुघ्न ने ‘वन मैन शो एंड टू मैन आर्मी’ कह कर नरेंद्र मोदी और अमित शाह पर ताना भी मारा। लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और कीर्ति आजाद जैसे नेताओं को दरकिनार करने के लिए भी भाजपा के शीर्ष नेताओं की कड़ी आलोचना की है। यह कोई पहला मौका नहीं जब शत्रुघ्न सिन्हा ने अपनी ही पार्टी के शीर्ष नेतृत्व पर सवाल उठाए हैं। इससे पहले भी वह कई बार पीएम मोदी पर तंज कस चुके हैं।

शत्रुघ्न सिन्हा ने शहजाद पूनावाला के जरिये भाजपा नेतृत्व पर हमला बोला है। उन्होंने ताबड़तोड़ तीन ट्वीट कर पीएम मोदी और अमित शाह पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट किया, ‘शहजाद पूनावाला ने अपनी ‘शाहजादा हताशा’ को प्रकट किया है। यह स्पष्ट तौर पर उनकी पार्टी का अंदरूनी मामला था। लेकिन, शायद गलत जानकारी मिलने या गुस्से और भ्रम के कारण मेरे कुछ अपने लोग और नेता राहुल गांधी के अध्यक्ष बनने पर उनके लिए घड़ियाली आंसू बहाने सामने आ गए।’ पूर्व केंद्रीय मंत्री यहीं नहीं रुके। इसके बाद उन्होंने दो और ट्वीट किए। अगले ट्वीट में उन्होंने लिखा, ‘दूसरी तरफ, मेरे अपने ‘वन मैन शो एंड टू मैन आर्मी’ हमारे सबसे योग्य और वरिष्ठ नेताओं जैसे आडवाणी जी, मुरली मनोहर जोशी जी और सबसे काबिल कीर्ति आजाद के साथ अनुचित व्यवहार कर रहे हैं। पार्टी नेतृत्व विद्वान नेताओं जैसे यशवंत सिन्हा, अरुण शौरी और आपके असली शत्रुघ्न सिन्हा द्वारा राष्ट्रीय हित में उठए जा रहे सवालों का जवाब क्यों नहीं दे रहे हैं। क्या जो बात पीटर के लिए सही है वही पॉल के लिए भी होना चाहिए! एक बार फिर से निश्चित तौर पर पार्टी के कुछ आंतरिक मसले होंगे।’

शत्रुघ्न सिन्हा के बयानों से कई बार पार्टी नेतृत्व के लिए असहज स्थिति पैदा हो चुकी है। खासकर बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान उनके रवैये से पार्टी की काफी फजीहत हुई थी। पिछले कई वर्षों से वह हाशिए पर चल रहे हैं। कुछ दिनों पहले गुजरात विधानसभा चुनाव प्रचार अभियान का बहाना बनाकर उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसा था। उन्होंने कहा था कि नेताओं को धर्म और ग्रैजुएशन की डिग्री मांगने के बजाय गुजरात की जनता से किए वादे और गुजरात मॉडल की सफलता पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए।

 Courtesy: Jansatta
Categories: India, Politics

Related Articles