GST पर सरकार के दावों को एक्सपोर्टर्स ने बताया गलत, नहीं मिल रहा रिफंड

GST पर सरकार के दावों को एक्सपोर्टर्स ने बताया गलत, नहीं मिल रहा रिफंड

नई दिल्ली. भले ही सरकार दावा कर रही है जीएसटी में एक्सपोर्टर्स को ऑनलाइन रिफंड मिलना शुरू हो गया लेकिन उसकी हकीकत कुछ और ही है। एक्सपोटर्स के अनुसार, नए नियमों के लागू होने के बाद भी रिफंड अभी तक नहीं मिल पाया है जबकि सरकार ने कहा था कि 6ए और जीएसटीआर-3बी फाइल करने के सात दिन बाद रिफंड मिल जाएगा।

6,500 करोड़ रुपए का रिफंड अटका

जुलाई से अक्टूबर तक का आईजीएसटी रिफंड शिपिंग बिल के मुताबिक 6,500 करोड़ रुपए और इन्पुट टैक्स क्रेडिट का अमाउंट करीब 30 करोड़ रुपए है। सरकार ने एक्सपोर्टर्स को आईजीएसटी रिफंड और इन्पुट टैक्स क्रेडिट के लिए टेबल 6ए और जीएसटीआर-3बी फाइल करने के लिए कहा था लेकिन एक्सपोटर्स का कहना है कि पोर्टल पर टेबल 6ए और जीएसटीआर-3बी फाइल करने के बाद भी रिफंड नहीं मिल रहा है।

 

एक्सपोर्टर्स का दावा नहीं मिला रिफंड

एक्सपोर्ट प्रमोशन काउंसिल फॉर हैंडीक्राफ्ट (ईपीसीएच) के चेयरमैन ओमप्रकाश प्रह्लाद ने कहा कि सरकार कह रही है कि रिफंड मिलना शुरू हो गया है लेकिन ऐसा नहीं है। एक्सपोर्ट इंडस्ट्री को अभी तक रिफंड मिलना शुरू नहीं हुआ है। कारोबारियों के पोर्टल पर टेबल 6ए और जीएसटीआर-3बी फाइल करने के पर रिफंड एक्सपोर्टर्स के अकाउंट में शो नहीं कर रहा है। प्रह्लाद ने कहा कि अभी भी कई एक्सपोटर्स के जीएसटी पोर्टल पर रिफंड और टेबल 6ए ही नहीं भर पा रहे हैं क्योंकि पोर्टल का सिस्टम ही काम नहीं कर रहा है।

 

एक्सपोर्ट को हो रहा है नुकसान

हैंडीक्राप्ट एक्सपोर्टर राजकुमार मल्होत्रा ने कहा कि सरकार ने भी माना है कि जीएसटी पोर्टल में प्रॉब्लम है, तो सरकार पहले इस समस्या को खत्म करे क्योंकि कस्टम के अधिकारी भी मान रहे है कि कस्टम के बिल में प्रॉब्लम नहीं है लेकिन जीएसटी पोर्टल पर आईजीएसटी के साथ मिसमैच दिखा रहा है। मल्होत्रा ने कहा कि इसका सीधा नुकसान कारोबार को हो रहा है क्योंकि वर्किंग कैपिटल पांच महीने से अटकी हुई है।

Courtesy: Bhaskar

Categories: Finance

Related Articles