जाने-माने साहित्यकार अशोक वाजपेयी के खिलाफ CBI जांच, अवॉर्ड वापसी में थे शामिल

जाने-माने साहित्यकार अशोक वाजपेयी के खिलाफ CBI जांच, अवॉर्ड वापसी में थे शामिल

जाने-माने साहित्यकार और ललित कला अकादमी के पूर्व अध्यक्ष अशोक वाजपेयी सीबीआई जांच के दायरे में आ गए हैं। ललित कला अकादमी नई दिल्ली में कथित अनियमितताओं के मामले में सरकार ने सीबीआई को जांच के लिए कहा है। बता दें कि अशोक वाजपेयी हिंदी के प्रख्यात कवि हैं। असहिष्णुता के मुद्दे पर अवॉर्ड वापसी अभियान में उन्होंने बढ-चढ़कर भाग लिया था।

अंग्रेजी समाचार पत्र ‘द इंडियन एक्सप्रेस’ के मुताबिक संस्कृति मंत्रालय ने पत्र लिखकर सीबीआई के निदेशक अलोक कुमार वर्मा से अनुरोध किया है कि वे “नई दिल्ली में ललित कला अकादमी में अनियमितताओं और सरकारी दिशा-निर्देशों के उल्लंघन” मामले की जांच करे।

पत्र के मुताबिक 2012-13 से 2014-15 के बीच का इंटरनल ऑडिट करवाया गया है। ऑडिट में सामने आया है कि इस दौरान कई नियमों की अनदेखी कर कई जगह सीमा से ज्यादा भुगतान किया गया है। साथ ही आरोप है कि अशोक वाजपेयी ने कथित तौर पर कुछ कलाकारों को बिना किसी फीस के गैलरी दे दी थी।

क्या कहते हैं साहित्यकार?

अशोक वाजपेयी के खिलाफ सीबीआई जांच की खबर आने के बाद साहित्य जगत और बुद्धिजीवियों की ओर से तीखी प्रतिक्रियाएं सामने आ रही हैं। वरिष्ठ पत्रकार ओम थानवी ने इसे बदले की कार्रवाई करार दिया है। अपने फेसबुक पोस्ट में थानवी ने लिखा है कि कि कोई भी समझ सकता है, मोदी सरकार के अनाचार के खिलाफ ‘प्रतिरोध’ का झंडा खड़ा करने वालों में वाजपेयी अगुआ रहे। अकादमी के सचिव को उन्होंने निलम्बित किया था, जो भाजपा सरकार के आते ही बहाल हुए।”

मोदी सरकार की सबसे हास्यास्पद हरकतों में एक – संस्कृति मंत्रालय ने सीबीआइ को कवि और संस्कृति-मौला अशोक वाजपेयी की ‘अनियम…

Posted by Om Thanvi on Tuesday, 5 December 2017

 

 

पत्रकार संजीव चंदन लिखते हैं, “साहित्य जगत ने खुशी और गम के अलग-अलग असर के साथ इस खबर का स्वागत किया है। अशोक जी का खेमा शौक से शहीदी का दर्जा उन्हें दिला सकता है, आखिरे वे असहिष्णुता विरोधी कैम्पेन के चैम्पियन थे, सीधे मोदी-विरोधी. शहीद बनाने वाले गमगीनों का खेमा इसे मोदी जी के इशारे की कार्रवाई बताने में कोई कसर नहीं छोड़ने वाला वही दूसरों के दुःख में मगन-मन प्रसन्न खेमा इसे अशोक जी की कारस्तानियों का प्रतिफल बताएगा- दार्शनिक भी हो जा सकता है- जैसा करम करेगा वैसा फल देगा भगवान!”

अशोक वाजपेयी को शहीद करेगी सरकार: कहीं खुशी कहीं गम हिन्दी साहित्य के लिए दुर्दिन के दिन तो कम ही आते हैं लेकिन लगता ह…

Posted by Sanjeev Chandan on Wednesday, 6 December 2017

अशोक वाजपेयी को शहीद करेगी सरकार: कहीं खुशी कहीं गम हिन्दी साहित्य के लिए दुर्दिन के दिन तो कम ही आते हैं लेकिन लगता ह…

Posted by Sanjeev Chandan on Wednesday, 6 December 2017

Courtesy: Outlook 

Categories: India

Related Articles