PM मोदी की ‘सी-प्लेन’ यात्रा में 42 लाख खर्च, जब कुछ घंटों में इतना पैसा खर्च होगा तो भ्रष्टाचार कैसे नहीं होगा

PM मोदी की ‘सी-प्लेन’ यात्रा में 42 लाख खर्च, जब कुछ घंटों में इतना पैसा खर्च होगा तो भ्रष्टाचार कैसे नहीं होगा

अक्सर ये सवाल उठता है कि राजनीतिक पार्टियाँ सत्ता में आने के बाद इतना भ्रष्टाचार क्यों करती हैं। ये सवाल जनता की ओर से अक्सर पूछा जाता है। लेकिन इस सवाल को जनता को एकबार खुद से भी पूछना होगा। जबतक वो राजनेताओं के राजनीतिक स्टंटों को बढ़ावा देती रहेगी ऐसा होता रहेगा।

जब-जब जनता चुनाव के दौरान हवा में उढ़ते हेलिकॉप्टर को देखकर खुश होती रहेगी तब-तब भ्रष्टाचार को बढ़ावा मिलेगा। क्योंकि इस सब में राजनेता अनगिनत पैसा खर्च करते है और फिर सत्ता में आकर भ्रष्टाचार जैसे तरीकों से वसूलते हैं। राजनीति को बदलने के लिए जनता को भी बदलना होगा। प्लेन-हेलीकॉप्टर नहीं बल्कि मुद्दों को तवज्जों देनी होगी।

the quint की खबर के अनुसार मंगलवार को प्रधानमंत्री मोदी की गुजरात चुनावी अभियान के लिए की गई सी-प्लेन यात्रा में लगभग 42 लाख का खर्च आने का अनुमान है। केवल कुछ घंटों के लिए इतना पैसा फूक देना कितना सही है?

पीएम मोदी गुजरात विधानसभा चुनाव के लिए ये अभियान कर रहे हैं। जिस गुजरात में वो जनता को लुभाने के लिए कुछ घंटों में 42 लाख खर्च कर रहे हैं उसी गुजरात की बड़ी आबादी गरीबी और कुपोषण का शिकार है। गौरतलब है कि गुजरात में अधिकतर बच्चें कुपोषण के शिकार हैं।

एकतरफ पीएम मोदी आम नागरिक होने का दावा करते हैं और दूसरी तरफ आम नागरिक की जीवनभर की कमाई जितनी रकम कुछ घंटों में खर्च कर देते हैं।

भाजपा 2014 में भ्रष्टाचार को मुद्दा बनाकर सत्ता में आई है। लेकिन क्या अब वो इस बात की सफाई दे सकती है कि इतना पैसा वो खर्च करने के लिए कैसे और कहा सा लाती है। मोदी सरकार पर लगातार उद्योगपतियों को फायदा पहुँचाने के आरोप लगते रहे हैं। चुनाव में भाजपा का इस तरह का खर्च इन आरोपों को आधार देता है।

 

Courtesy: boltahindustan

Categories: India

Related Articles