राजस्थान सरकार का फरमान, सभी सरकारी लेटरपैड पर तत्काल इस्तेमाल करें दीनदयाल उपाध्याय का लोगो

राजस्थान सरकार का फरमान, सभी सरकारी लेटरपैड पर तत्काल इस्तेमाल करें दीनदयाल उपाध्याय का लोगो

राजस्थान सरकार ने सरकारी विभागों को एक सर्कुलर जारी कर आदेश दिया है कि सभी लेटरपैड में जनसंघ अध्यक्ष पंडित दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीर लगाई जाए। सरकार के इस आदेश के दायरे में सभी सरकारी विभाग, नगर निगम और बोर्ड आएंगे। 11 दिसंबर को जारी किये गये और सामान्य प्रशासन विभाग के प्रिंसिपल सेक्रेटरी द्वारा हस्ताक्षर किये गये इस आदेश के मुताबिक इसे तत्काल प्रभाग से लागू किया जाना है। सर्कुलर में लिखा है, ‘पंडित दीनदयाल उपाध्याय की सही साइज की एक तस्वीर पहले से मौजूद लेटरपैड में लगाई जाए और भविष्य में छपने वाले लेटरपैड में इसे अनिवार्य रूप से छपवाया जाए। बता दें कि पंडित दीनदयाल उपाध्याय की पढ़ाई-लिखाई राजस्थान में हुई थी। राजस्थान सरकार ने इस सर्कुलर को सभी अतिरिक्त मुख्य सचिव, प्रधान सचिव, विभागों के सचिव अनुमंडल कमिश्नर और डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट को भेजा है। अधिकारियों ने कहा कि सभी विभाग पंडित दीन दयाल उपाध्याय की तस्वीर वाली नये लेटरपैड को छपवाएंगे।

राजस्थान सरकार के संयुक्त सचिव शक्ति सिंह राठौड ने कहा कि ये आदेश कुछ ही दिन पहले पारित किया गया है और सभी विभाग अपनी स्टेशनरी छपवाएंगे जिसमें दीनदयाल उपाध्याय की तस्वीर होगी। बता दें कि राजस्थान सरकार पर अक्सर विवादित फैसले लेने का आरोप लगता रहता है। इससे पहले राजस्थान सरकार ने स्वास्थ्य विभाग में काम करने वाले मुस्लिम स्टाफ की सूची मांगी थी। यह आदेश हेल्थ डिपार्टमेंट के जॉइंट डायरेक्टर (एडमिनिस्ट्रेशन) डॉक्टर बीएल सैनी ने 9 दिसंबर को जारी किया था। राज्य के सभी प्रमुख चिकित्सा स्वास्थ्य अधिकारी यह बताएंगे है कि उप-स्वास्थ्य केन्द्रों, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों और सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्रों में कितने मुस्लिम स्टाफ काम कर रहे हैं। इनके अलावा रेडियोग्राफर, लैब टेक्नीशियन, डेंटल तकनीशियन, नर्सिंग स्टाफ और अन्य गैर गजेटेड कर्मचारी की लिस्ट भी मुख्यालय को भेजी जानी है। इससे पहले राजस्थान सरकार ने 12 दिसंबर को मीसा बंदी पेंशन योजना का नाम बदलकर राजस्थान लोकतंत्र सेनानी सम्मान निधि कर दिया था।

Courtesy: Jansatta

Categories: India

Related Articles