तीन तलाक पर आज लोकसभा में बिल पेश कर सकती है मोदी सरकार, जानिए खास बातें

तीन तलाक पर आज लोकसभा में बिल पेश कर सकती है मोदी सरकार, जानिए खास बातें

नई दिल्ली। केंद्र सरकार आज संसद में तीन तलाक पर बिल पेश करेगी। बताया जा रहा है कि मोदी सरकार ने इस विधेयक का नाम ‘द मुस्लिम वीमेन प्रोटेक्शन ऑफ राइट्स इन मैरिज एक्ट’ रखा है।पिछले हफ्ते ही कैबिनेट ने इस बिल को मंजूरी दी है। मुस्लिम महिलाओं को उनका संवैधानिक अधिकार दिलाने के लिये सरकार ये बड़ा कदम उठाने जा रही है।

बुधवार को संसद में सरकार की ओर से कहा गया कि तीन तलाक के खिलाफ विधेयक तैयार करने में मुस्लिम संगठनों से कोई विचार-विमर्श नहीं किया गया और यह मुद्दा लैंगिक न्याय, लैंगिक समानता और महिलाओं की गरिमा की मानवीय अवधारणा से जुड़ा हुआ है, जिसमें आस्था और धर्म का कोई संबंध नहीं है।

सरकार ने ट्रिपल तलाक पर कानून बनाने के लिए मंत्रियों की कमेटी गठित की थी। ट्रिपल तलाक पर सख्त कानून मोदी सरकार की प्राथमिकताओं में शामिल रहा है। बीजेपी ने अपने सभी सांसदों को विधेयक पेश करते वक्त लोकसभा में मौजूद रहने का आदेश दिया है। इसे कानून मंत्री रवि शंकर प्रसाद पेश करेंगे। वइस विधेयक में आरोपी को तीन साल तक की कैद और जुर्माने का प्रावधान है।

सुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद भी नहीं थमा तीन तलाक 

22 अगस्त 2017 को सुप्रीम कोर्ट ने एक बार में तीन तलाक को गैरकानूनी और असंवैधानिक करार दिया था। प्रस्तावित कानून के मसौदे के अनुसार किसी भी तरह से दिए गए तीन तलाक को गैरकानूनी और अमान्य माना जाएगा, चाहे वह मौखिक अथवा लिखित तौर पर दिया गया हो या फिर ईमेल, एसएमएस और व्हाट्सऐप जैसे इलेक्ट्रानिक माध्यमों से दिया गया हो।

सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पहले इस साल एक बार में तीन तलाक के 177 मामले सामने आए थे और फैसले के बाद 66 मामले सामने आए। इसमें उत्तर प्रदेश सबसे आगे रहा। इसको देखते हुए सरकार ने कानून की योजना बनाई।

Courtesy: puridunia.

Categories: India