आलू सड़क पर फेंकने को मजबूर किसान, श्रीमान मुख्यमंत्री दूसरे प्रदेशों में कर रहें हैं चुनाव प्रचार’

आलू सड़क पर फेंकने को मजबूर किसान, श्रीमान मुख्यमंत्री दूसरे प्रदेशों में कर रहें हैं चुनाव प्रचार’

लखनऊ. यूपी की सियासत में इन दिनों च्विटर वार चल रहा है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर कर्नाटक के सीएम तो जवाब दिया तो यूपी के प्रदेश अध्यक्ष राजबब्बर ने भी ट्विटर के सहारा लेकर सीएम योगी पर तंज कसा है। राज बब्बर ने अपने ट्विटर पर लिखा है- “कीमत के अभाव में यूपी का आलू किसान, आलू सड़क पर फेंकने को मजबूर। पर श्रीमान मुख्यमंत्री दूसरे प्रदेशों के चुनाव प्रचार में व्यस्त। बरेली में व्यक्ति भूख से मर गया पर श्रीमान दूसरे प्रदेश की खाद्य नीति पर रिसर्च कर रहे हैं।”

-राजबब्बर ने अपने ट्वीट पर सीएम योगी का नाम नहीं लिया जबकि कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया को टैग किया है।

किसानों को नहीं मिल रहें आलू के उचित दाम

-यूपी के किसानों को आलू का सही दाम नहीं मिलने से नाराज किसानों ने विरोध जताते हुए लाखों टन आलू मुख्यमंत्री आवास, विधानसभा और राजभवन के बाहर फेंक दिया था।

ट्विटर वार में शामिल हुए थे सीएम योगी

-सीएम योगी आदित्यनाथ ने ट्विटर वार में शामिल हो गए। उन्होंने एक ट्वीट कर कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया को करारा जवाब दिया था। योगी आदित्यनाथ रविवार को बंगलूरू में बीजेपी की रैली को संबोधित करने के लिए पहुंचे थे। आपको बता दें कि इस साल कर्नाटक में चुनाव होना है और अभी वहां कांग्रेस की सरकार है।

-कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया ने बीजेपी की बंगलूरू रैली में शामिल दूसरे राज्यों के नेताओं के बहाने अपनी ब्रांडिंग के लिए दो ट्वीट किए जिसके बाद योगी आदित्यनाथ ने अपने ही अंदाज में ट्वीट कर करारा जवाब दिया था। हालांकि योगी के ट्वीट के बाद सिद्धारमैया का कोई रिप्लाई नहीं आया था।

क्या कहा था कर्नाटक के सीएम ने ?

-कर्नाटक के सीएम सिद्धारमैया ने योगी के कर्नाटक दौरे पर ट्वीट करते हुए कहा था- ‘मैं उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री अदित्यनाथ योगी का हमारे राज्य में हमारे राज्य में स्वागत करता हूं। आपको हमसे सीखने के लिए बहुत कुछ है। हमारे यहां की इंदिरा कैंटीन व राशन की किसी दुकान को देखें। इससे आपको यूपी में भूख से होने वाली मौतों से निपटने में मदद मिलेगी।

योगी ने क्या जवाब दिया था

– योगी आदित्यनाथ ने ट्वीट कर इसका जवाब दिया। योगी ने ट्वीट किया- “स्वागत के लिए धन्यवाद सिद्दारमैयाजी। मैंने सुना है कि कर्नाटक में आत्महत्या करने वाले किसानों की संख्या आपके शासन में सबसे ज्यादा थी, न कि ईमानदार अधिकारियों के कई मौतों और स्थानांतरण का उल्लेख करने के लिए। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री के रूप में मैं अपने सहयोगी दलों द्वारा किए गए दुःख और अनैतिकता को खत्म करने के लिए काम कर रहा हूं।

 

Courtesy: Bhaskar.com

Categories: Politics

Related Articles

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*