विधानसभा चुनाव: त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड दो फेज में वोटिंग, 3 मार्च को आएंगे नतीजे

विधानसभा चुनाव: त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड दो फेज में वोटिंग, 3 मार्च को आएंगे नतीजे

नई दिल्ली. नॉर्थ-ईस्ट के तीन राज्य त्रिपुरा, मेघालय और नगालैंड के विधानसभा चुनावों की तारीखों का गुरुवार को एलान कर दिया गया। तीनों राज्यों में दो फेज में चुनाव होंगे। इलेक्शन कमीशन ने बताया कि त्रिपुरा में 18 फरवरी को वोट डाले जाएंगे। वहीं, मेघालय और नगालैंड में 27 फरवरी को चुनाव होंगे। तीनों राज्यों के नतीजे एक साथ 3 मार्च को आएंगे। इन राज्यों में पहली बार VVPAT (वोटर वेरिफाइड पेपर ऑडिट ट्रेल) का इस्तेमाल होगा।

– चीफ इलेक्शन कमिश्नर एके जोती ने बताया- “आचार संहिता अभी से लागू हो गई है। तीनों राज्यों में EVM और VVPAT का इस्तेमाल किया जाएगा। सभी उम्मीदवारों को इस बारे में जानकारी दी जाएगी। कैंडिडेट्स या उनके रिप्रेंजेटेटिव इन्हें चेक भी कर सकेंगे।”

– “VVPAT से निकली स्लिप्स को भी चेक किया जाएगा। काउंटिंग के दौरान इनका इस्तेमाल किया जा सकेगा। तीनो राज्यों से जुड़ा कोई पॉलिसी अनाउंसमेंट नहीं किया जा सकेगा। केंद्र को भी इसे मानना होगा।”

– “पूरे प्रॉसीजर की वीडियोग्राफी की जाएगी। सेंसेटिव पोलिंग स्टेशंस पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएंगे।”
– “20 लाख रुपए होगी चुनावी खर्च सीमा। कैंडिडेट्स को अपने बैंक अकाउंट्स की जानकारी देनी होगी। इसके साथ ही एक एफिडेविट भी इसी बारे में देना होगा।”

इन तीन राज्यों में किसकी सरकार?

– त्रिपुरा:लेफ्ट पार्टियों की सरकार है। माणिक सरकार सीएम हैं। 2013 में लेफ्ट ने पांचवी सरकार बनाई थी।
– मेघालय:कांग्रेस सत्ता में है। मुकुल संगमा यहां 2010 से सीएम हैं।
– नगालैंड:नागा पीपुल्स फ्रंट-लीड डेमोक्रेटिक अलायंस की सरकार है। बीजेपी ने सपोर्ट दिया है। टीआर जेलियांग पिछले साल जुलाई से सीएम हैं।

कहां कितनी सीटें हैं?

– खास बात ये है कि तीनों ही राज्यों में विधानसभा की 60-60 सीटें हैं।
– त्रिपुरा असेंबली का टेन्योर 6 मार्च को खत्म हो रहा है। वहीं, मेघालय और नगालैंड विधानसभा का कार्यकाल 13 और 14 मार्च को खत्म होगा।

2013 में किस पार्टी ने कितनी सीटें जीती थीं?

त्रिपुरा: कुल सीट- 60, बहुमत: 31

सीपीएम:49
कांग्रेस:10
अन्य: 01

मेघालय:कुल सीट- 60, बहुमत: 31

कांग्रेस:29
यूडीपी: 8
एनसीपी: 2
अन्य: 21

नगालैंड:कुल सीट- 60, बहुमत: 31

एनपीएफ: 38
कांग्रेस: 8
एनसीपी: 4
बीजेपी: 1
अन्य: 9

बीजेपी और कांग्रेस के सामने इन तीन राज्यों में क्या हैं चुनौती?

मेघालय: राज्य में कांग्रेस की सरकार है। राहुल गांधी की कोशिश है कि कांग्रेसियों का बीजेपी में पलायन रोका जाए। दिसंबर में चार एमएलए ने बीजेपी ज्वाइन की थी। इसमें एक कांग्रेस विधायक शामिल है।

– उधर, बीजेपी यहां अभी तक एक भी सीट नहीं जीत पाई है।

नगालैंड:यहां नगा पीपुल्स फ्रंट की सरकार है। बीजेपी ने 2013 में एक सीट जीती थी। कांग्रेस यहां 14 साल से सत्ता से बाहर है।

त्रिपुरा: मुकाबला हमेशा लेफ्ट और कांग्रेस के बीच रहता है। लेफ्ट के सीएम माणिक सरकार के लिए गढ़ बचाना चुनौती।
– उधर, कांग्रेस भी सत्ता में वापसी की कोशिश में है। कांग्रेस में काफी असंतोष है। 2016 में कांग्रेस के 6 विधायकों ने ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी ज्वाइन कर ली थी। हालांकि, ये टीएमसी में भी नहीं रहे और सभी 6 विधायकों ने अगस्त 2017 में बीजेपी का दामन थाम लिया।
– बीजेपी ने इस चुनाव के लिए पूरी ताकत झोंक दी है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी यहां 31 जनवरी को दो रैलियां करेंगे। एक साउथ त्रिपुरा में और दूसरी नॉर्थ त्रिपुरा में।

Courtesy: Bhaskar

 

Categories: India