पाकिस्तान से अमेरिका की दो टूक, ‘आतंकी हाफिज सईद के खिलाफ चलाया जाए मुकदमा’

पाकिस्तान से अमेरिका की दो टूक, ‘आतंकी हाफिज सईद के खिलाफ चलाया जाए मुकदमा’

वॉशिंगटनअमेरिका ने संयुक्त राष्ट्र की तरफ से आतंकवादी घोषित किए जा चुके आतंकी हाफिज सईद के खिलाफ मुकदमा चलाए जाने की अपील की है. अमेरिका ने यह अपील ऐसे समय में की है जब पाकिस्तान के प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी ने बयान दिया है कि सईद के खिलाफ कोई कदम उठाया नहीं जा सकता.

पाकिस्तानी पीएम ने हाफिज सईद को कहा था साहिब

बता दें कि पाकिस्तान के पीएम अब्बासी ने हाफिज सईद को ‘साहिब’ कह कर संबोधित किया था. अब्बासी से जब यह पूछा गया कि सईद के खिलाफ कोई कदम क्यों नहीं उठाया गया, तो इसके जवाब में पाकिस्तान के प्रधानमंत्री ने कहा था, ‘‘हाफिज सईद साहिब के खिलाफ पाकिस्तान में कोई मामला नहीं है. जब कोई मामला दर्ज हो, तभी कार्रवाई की जा सकती है.’’

अमेरिका ने दी कड़ी प्रतिक्रिया

इस पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए अमेरिकी विदेश मंत्रालय की प्रवक्ता हीथर नोर्ट ने कहा कि अमेरिका का मानना है कि सईद के खिलाफ मुकदमा चलाया जाना चाहिए और उन्होंने पाकिस्तान को इस बारे में बता दिया है.

नोर्ट ने कल कहा, ‘‘हमारा मानना है कि उसके खिलाफ मुकदमा चलाया जाना चाहिए. आतंकवादी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से संबंध होने के कारण उसे लक्षित प्रतिबंधों के लिए ‘यूएनएससी 1267, अलकायदा प्रतिबंध समिति’ की सूची में शामिल किया गया है.’’

हीथर ने कहा, ‘‘हमने पाकिस्तान सरकार के समक्ष पूरी स्पष्टता से अपनी बात और चिंताएं रख दी हैं. हमारा मानना है कि उसके खिलाफ मुकदमा चलाया जाना चाहिए.’’  उन्होंने कहा कि अमेरिका ने सईद के बारे में अब्बासी की टिप्पणियों वाली खबरें ‘‘निश्चित ही’’ देखी हैं.

2008 के मुंबई हमलों का मास्टरमाइंड है हाफिज- अमेरिका

हीथर ने कहा, ‘‘हम उसे एक आतंकवादी और एक विदेशी आतंकवादी संगठन का हिस्सा मानते है. हमारा मानना है कि वह 2008 के मुंबई हमलों का मास्टरमाइंड था. इस हमले में अमेरिकियों समेत कई लोगों की मौत हो गई थी.’’  जमात-उद-दावा के प्रमुख सईद को नवंबर में पाकिस्तान में नजरबंदी से रिहा किया गया था.

अमेरिका जमात उद दावा (जेयूडी) को लश्कर का सहयोगी मानता है. लश्कर की स्थापना सईद ने साल 1987 में की थी. लश्कर 2008 के मुंबई हमले करने के लिए जिम्मेदार है. इस हमले में 166 लोगों की मौत हो गई थी.

अमेरिका-पाकिस्तान संबंध के मामले पर पूरा प्रशासन एकजुट

हीथर ने कहा कि ट्रंप प्रशासन उम्मीद करता है कि पाकिस्तान आतंकवादी मामलों से निपटने में अधिक योगदान दे. उन्होंने कहा, ‘‘हम इस बात को लेकर पूरी तरह स्पष्ट रहे हैं. आप सभी हमारे द्वारा करीब दो सप्ताह पहले दी गई इस सूचना के बारे में जानते हैं कि हमने पाकिस्तान को सुरक्षा के लिए आर्थिक मदद रोकने का फैसला किया है.’’  हीथर ने कहा कि अमेरिका-पाकिस्तान संबंध के मामले पर पूरा प्रशासन एकजुट है.

अमेरिका ने रोक दी पाकिस्तान की सुरक्षा सहायता राशि

अमेरिका ने इस महीने की शुरूआत में पाकिस्तान को दी जाने वाली दो अरब डॉलर की सुरक्षा सहायता रोक दी थी और उस पर आतंकवाद के खिलाफ पर्याप्त कार्रवाई नहीं करने का आरोप लगाया था. इसके जवाब में पाकिस्तान ने अमेरिका के साथ सैन्य और खुफिया सहयोग रोक दिया था. अमेरिका के विदेश मंत्रालय ने कल कहा था कि उसे पाकिस्तान से इस बारे में कोई औपचारिक सूचना नहीं मिली है.

 Courtesy: ABPNews
Categories: International

Related Articles