पद्मावत के विरोध में हिंसा: अहमदाबाद के मॉल में तोड़फोड़ और 40 गाड़ियों में लगाई आग, गुड़गांव में धारा 144 लागू

पद्मावत के विरोध में हिंसा: अहमदाबाद के मॉल में तोड़फोड़ और 40 गाड़ियों में लगाई आग, गुड़गांव में धारा 144 लागू

नई दिल्ली: संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावत का विरोध जारी है. गुजरात के अहमदाबाद में कुछ उपद्रवियों ने पहले एक मॉल को निशाना बनाया और फिर वहां खड़ी करीब 40 गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया. पुलिस को उपद्रवियों को रोकने में काफी मशक्कत करनी पड़ी. खबरों के मुताबिक पुलिस को हवाई फायरिंग तक करनी पड़ी. हालांकि पहले ही सिनेमा हॉल मैनेजमेंट कह चुका है कि वो पद्मावत फिल्म नहीं लगाएंगे. बावजूद इसके हिमालय मॉल जहां बिग सिनेमा है वहां तोड़फोड़ की गई.

पद्मावत के रिलीज से पहले गुड़गांव में धारा 144 लागू 
पद्मावत के 25 जनवरी को रिलीज से पहले राजपूत करणी सेना की धमकी के मद्देनजर गुड़गांव में रविवार तक धारा 144 लगा दी गयी है. करणी सेना ने फिल्म की स्क्रीनिंग कर रहे सिनेमाघरों को निशाना बनाने की धमकी दी है. गुड़गांव में 40 से ज्यादा सिनेमाघर और मल्टीप्लेक्स हैं. हरियाणा सरकार ने हालांकि कहा कि वह फिल्म के प्रदर्शन को लेकर उच्चतम न्यायालय के आदेश को लागू करेगी. गुड़गांव में डिप्टी कमिश्नर विनय प्रताप सिंह ने कहा, ‘‘कानून व्यवस्था में गड़बड़ी की आशंका के मद्देनजर धारा 144 लगाई है।’’ 25 जनवरी को फिल्म पद्मावत रिलीज हो रही है.

कानपुर के मल्‍टीप्‍लेक्‍स में फिल्‍म के पोस्‍टर फाड़े 
कानपुर में काकादेव के सर्वोदय नगर इलाके में स्थित एक मॉल मल्टीप्लेक्स में करणी सेना के करीब एक दर्जन सदस्यों ने संजय लीला भंसाली की 25 जनवरी को रिलीज होने वाली फिल्म पद्मावत के खिलाफ प्रदर्शन किया. काकादेव के थानाध्यक्ष अजय कुमार सिंह ने बताया कि करणी सेना के सदस्यों ने फिल्म के पोस्टर फाड़ दिये, शीशे तोड़े और वहां मल्टीप्लेक्स के कर्मचारियों के साथ अभद्रता की. प्रदर्शनकारी भंसाली के खिलाफ नारेबाजी कर रहे थे और फिल्म पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने की मांग कर रहे थे। प्रदर्शनकारियों ने धमकी दी कि करणी सेना शहर में फिल्म का प्रदर्शन किसी भी हालत में नहीं होने देगी।

मध्‍यप्रदेश में संजय लीला भंसाली का पुतला जलाया 
मध्यप्रदेश राजपूत समाज ने जिला कलेक्टर कार्यालय के बाहर विरोध प्रदर्शन किया और अधिकारियों को अपनी मांगों के समर्थन एक ज्ञापन सौंपा. मध्यप्रदेश राजपूत समाज के महासचिव दीपक चौहान ने कहा, “जन भावनाओं को ध्यान में रखते हुए पद्मावत की भोपाल में रिलीज रोकने के लिए हमने जिला कलेक्टर को एक ज्ञापन सौंपा है.” चौहान ने कहा कि विरोध प्रदर्शन में अन्य संगठन के लोग भी शामिल हुए. इसमें फिल्म निर्देशक संजय लीला भंसाली का पुतला और फिल्म के पोस्टर का दहन किया गया. लोगों ने प्रदेश के अन्य भागों में भी फिल्म के विरोध में प्रदर्शन किया.

गुजरात के उप मुख्यमंत्री नितिन पटेल ने कहा है कि राज्य में ज्यादातर सिनेमाघर मालिकों ने स्वेच्छा से विवादास्पद बॉलीवुड फिल्म पद्मावत नहीं दिखाने का फैसला किया है. उन्होंने जोर दिया कि राज्य सरकार कानून व्यवस्था कायम रखने के लिये अपनी तरफ से सर्वश्रेष्ठ प्रयास कर रही है.

Courtesy: NDTV

Categories: Crime

Related Articles