कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एक दिलचस्प व्यक्ति हैं, जिनमें जबरदस्त बौद्धिक जिज्ञासा है: शशि थरूर

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी एक दिलचस्प व्यक्ति हैं, जिनमें जबरदस्त बौद्धिक जिज्ञासा है: शशि थरूर

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और केरल की तिरुअनंतपुरम सीट से सांसद शशि थरूर ने बुधवार (31 जनवरी) को कहा कि पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी एक दिलचस्प व्यक्ति हैं जिनमें जबरदस्त बौद्धिक जिज्ञासा है, लेकिन दुखद है कि देश ने उनकी काफी क्षमताएं नहीं देखी है।

न्यूज़ एजेंसी भाषा की ख़बर के मुताबिक, थरूर ने मुशायरा साहित्य उत्सव में दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदू कॉलेज के छात्रों के सवालों का जवाब देते हुए यह कहा। इससे पहले उन्होंने खचाखच भरे सभागार में एक व्याख्यान दिया। नए पार्टी अध्यक्ष के बारे में उनका विचार पूछे जाने पर कांग्रेस नेता शशि थरुर ने कहा कि राहुल विचारों, दृष्टिकोणों, उत्कण्ठा और ज्ञान एवं शब्द भंडार के साथ पले बढ़े हैं जिसे कई युवा अनुकूल पाएंगे।

Also Read:  गुजरात के सिविल अस्पताल में 36 घंटे में 11 नवजात शिशुओं की मौत, लोगों में आक्रोश

कांग्रेस सांसद ने कहा कि राहुल ने धर्म और आस्था के विषय के बारे में बहुत गहराई से विचार किया है। वह एक शिव भक्त हैं और गंभीरता से बौद्ध विपश्यना करते हैं तथा इसके और हिंदू दर्शन की विभिन्न शाखाओं के बीच अंतर के बारे में बातें कर सकते हैं।

उन्होंने कहा कि राहुल एक अत्यंत दिलचस्प व्यक्ति हैं जिनमें जबरदस्त बैद्धिक जिज्ञासा है और असाधारण हैं। मैं ऐसा इसलिए कह सकता हूं कि मंत्री रहने के दौरान संसद में कुछ साल मैं ठीक उनके पीछे बैठता था।

उन्होंने कहा कि हर रोज हम बातें करते थे और वह (राहुल) वे विषय उठाते थे, जिस बारे में वह पुस्तक पढ़ रहे होते थे। वह इस तरह के व्यक्ति हैं। लेकिन दुखद है कि शेष देश ने इसे पर्याप्त रूप से नहीं देखा है। थरूर ने कहा कि भारत दो शैली के नेतृत्व में एक को पसंद करने की स्थिति का सामना कर रहा है।

उन्होंने कहा कि एक ओर हमारे पास एक ऐसा व्यक्ति है जो ‘वन मैन शो’ है। जो यह कहता है कि उसके पास सारे सवालों के जवाब हैं। वहीं, दूसरी ओर आपके पास एक ऐसा व्यक्ति है जो कहता है, ‘‘मैं सारे जवाब नहीं जानता लेकिन मैं आपके पास आउंगा और आपको सुनुंगा और साथ काम करने के लिए अनुभवी लोगों का एक समूह लेकर आउंगा।’’

थरूर ने देश में दक्षिण पंथ पर भी हमला बोला। उन्होंने कहा कि परंपरागत रूप से दक्षिण और वाम विचारधारा आर्थिक कारणों को लेकर उभरा लेकिन आज दक्षिणपंथ ‘सांस्कृतिक राष्ट्रवाद’ के बारे में हैं।

Courtesy: .jantakareporter

Categories: India

Related Articles