मुस्लिम धर्म गुरुओं ने किया ओवैसी के बयान का समर्थन, कहा-मुसलमानों पर लगते हैं इल्जाम, बने कानून

मुस्लिम धर्म गुरुओं ने किया ओवैसी के बयान का समर्थन, कहा-मुसलमानों पर लगते हैं इल्जाम, बने कानून

लखनऊ। एआईएमआईएम के नेता असद्दुद्दीन ओवैसी के उस बयान पर मुस्लिम धर्मगुरुओं ने भी सहमति जताई है जिसमे उन्होंने मुस्लिमों को पाकिस्तान जाने के लिए कहने वालो को तीन साल की सज़ा देने की मांग की है। सुन्नी धर्मगुरु हों या शिया धर्मगुरु सभी ने ओवैसी के बयान का समर्थन किया है।

लखनऊ में ईदगाह के ईमाम और सुन्नी मुस्लिम धर्म गुरू मौलाना खालिद रशीद फरंगी महली ने कहा कि हिन्दुस्तानी मुसलमानों को बार-बार पाकिस्तान से जोड़ा जाता है। उनपर इल्जाम लगाये जाते है जिसकी वजह से सभी मुसलमानों को दिली तकलीफ होती है।  उन्होंने कहा​ कि इसलिए इस मसले में सख्त कानून बनाए जाने की दरकार है। जो लोग इस तरह के इल्जाम लगाते हैं, उन पर सख्त कानूनी कार्रवाई की जानी चाहिए।

धर्म गुरू ने किया ओवैसी का समर्थन 

वहीं शिया धर्म गुरू अली हुसैन कहते हैं कि इस तरह के बयान दे कर लोग देश का माहौल बिगाड़ना चाहते हैं। उन पर इन पर कार्रवाई होनी चाहिए। यह मुल्क हम सभी का मुल्क है। यहां कोई ठेकेदार नहीं है। न ये मुल्क हिंदुओं का है, न मुसलमानों का है, ये ​इंसानों का मुल्क है। ऐसा बयान देने वाले नेताओं भी सख्ती बरती जानी चाहिए।

असदुद्दीन ओवैसी ने लोकसभा में रखी अपनी बात 

आपको बता दें कि लोकसभा में असदुद्दीन ओवैसी ने कह था कि भारत में मुसलमानों को पाकिस्तानी कहा जाता है। उन्होंने ऐसे लोगों के लिए सजा की मांग की जो भारतीय मुसलमानों को पाकिस्तानी कहते हैं। इस दौरान ओवैसी ने आरोप लगाया कि मुसलमानों को तिरंगा भी नहीं फहराने दिया जाता। उन्होंने मुसलमानों को पाकिस्तान कहने वालों के लिए कड़ी सजा का प्रवधान करने की मांग की।

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुसलमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख और सांसद असदुद्दीन ओवैसी अपने विवादित बयानों के लिए जाने जाते हैं। इससे पहले भी वह कश्मीरी छात्रों के साथ हुई मारपीट के मामले में हरियाणा सरकार को भला-बुरा कह चुके हैं। उन्होंने कहा था कि कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और हमेशा रहेगा। हम क्या संदेश दे रहे हैं? उन्होंने क्या अपराध कर दिया है? उनपर हमला करने वाले लोग कौन हैं? सरकार लोगों को सुरक्षा देने के बजाय विचारधारा पर काम कर रही है।

Courtesy: puridunia.

Categories: India

Related Articles