इनलो ने माँगा खट्टर से स्तीफा, कहा 50 करोड़ लुटाकर भी सफल नहीं कर पाए रैली

इनलो ने माँगा खट्टर से स्तीफा, कहा 50 करोड़ लुटाकर भी सफल नहीं कर पाए रैली

अनूप कुमार सैनी: रोहतक, इंडियन नेशनल लोकदल के कार्यकत्र्ताओं ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह की रैली के विरोध में कई स्थानों ने काले झंडे दिखाए और जमकर नारेबाजी की। साथ ही इनेलो ने सरकार से रैली पर खर्च हुए करोड़ों रूपये का हिसाब मांगा और इस बारे में श्वेत पत्र जारी करने की मांग की।
इनैलो कार्यकर्ता रोहतक जिला अध्यक्ष सतीश नांदल के नेतृत्व में लाखनमाजरा में इकट्ठे हुए और जींद में होने वाली भाजपा की बाईक रैली का विरोध किया। इनैलो कार्यकत्र्ताओं ने अमित शाह की रैली के विरोध में कई स्थानों ने काले झंडे दिखाए और जमकर नारेबाजी की। वीरवार को काफी संख्या में इनेलो कार्यकत्र्ता प्रदेश प्रवक्ता सतीश नांदल के नेतृत्व में लाखनमाजरा स्थित अनाज मंडी में एकत्रित हुए और काले झंडे दिखाकर रैली का विरोध किया।
सतीश नांदल ने कहा कि जींद में हुई शाह की रैली पूरी तरह फ्लॉप साबित हुई है। भाजपा ने अमित शाह की रैली में करोड़ों रुपए खर्च किए, फिर भी रैली पूरी तरह से फ्लॉप रही। इससे साफ है कि प्रदेश की जनता भाजपा की जनविरोधी नीतियों से तंग आ चुकी है। यहां तक कि पार्टी के नेताओं व कार्यकत्र्ताओं ने भी रैली से दूरियां बनाए रखी, जिसके चलते रैली स्थल पर भीड़ एकत्रित नहीं हो सकी।

उन्होंने कहा कि आज सरकार की जनविरोधी नीतियों से हर वर्ग परेशान है। सरकार को इस बात का जबाव देना चाहिए कि सुरक्षा के लिए 22 करोड़ रुपए अद्र्ध सैनिक बलों पर खर्च किए हैं जबकि इसके अतिरिक्त और भी अन्य खर्च हुए हैं। सरकार ने इस रैली पर करीब 50 करोड़ रुपए बर्बाद किए हैं। अगर सरकार ने इस रैली पर खर्च का ब्यौरा नहीं दिया तो इनेलो हर स्तर पर विरोध करेगा। रैली में भीड़ न देखकर भाजपा राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने भी अपना भाषण चंद मिनटों में समाप्त कर दिया। उन्होंने दावा किया कि अगली सरकार इनेलो की बनेगी।
इनैलो नेता ने कहा कि भाजपा सरकार द्वारा एसवाईएल और दादू-नलवी नहर को शुरु न कराने और हरियाणा में बिगड़ती कानून वव्यस्था की जिम्मेदार सरकार है। उनका कहना था कि भाजपा सरकार ने सत्ता में आने से पहले जनता से 154 वादे किए थे लेकिन भाजपा सरकार के तीन वर्ष बीत जाने के बाद भी सरकार ने कोई वादा पूरा नहीं किया। उनमें से दादूपुर-नलवी नहर, एसवाईएल का पानी हरियाणा को दिलाना लाना और स्वामीनाथन रिपोर्ट लागू कराना आदि 3 मुख्य वादे थे। आज तक भाजपा सरकार ने एक भी वादा पूरा नहीं किया। उन्होंने कहा कि ये रैली संगठन की नहीं बल्कि अमित शाह की चाटूखोरी की राजनीति की रैली है।

प्रदर्शनकारियों में महंत सतीश दास, वेद भैराण, सत्यप्रकाश बिसला, कृष्ण कौशिक, सुखवेन्द्र ईस्माइला, संजय बल्हारा, बलबीर राठी, देवेन्द्र रिठाल, सुरेन्द्र बल्हारा, सौरभ फरमाणा, डॉ. संदीप हुड्डा, राजेश सैनी, जेपी भाली, ताजवीर शिमली, रविन्द्र सांगवान, अजय मलिक, शीला खरैटी, चन्द्र सिंह बैरागी, जितेन्द्र गहलोत, सोनू भटनागर, विकास यादव, विष्णु बिडलाण, नरेश खुडिया, कर्मबीर बोहर, प्रताप सरपंच, राज बोहत, सतीश राठी, राजेन्द्र, पवन, मोनू, महावीर, धर्मबीर पांचाल, सत्यवान, विकास, कृष्ण घनघस, संदीप खरैटी, नारायाण प्रधान, टेकराम नम्बरदार, रामकिशन प्रमुख रूप से शामिल रहे।

Courtesy: haryanaabtak.

Categories: India

Related Articles