2019 से पहले मोदी को सबसे बड़ा झटका, बीजेपी की सहयोगी पार्टी ने केंद्र सरकार को दी धमकी

2019 से पहले मोदी को सबसे बड़ा झटका, बीजेपी की सहयोगी पार्टी ने केंद्र सरकार को दी धमकी

अमरावती। 2019 के लोकसभा चुनाव से पहले ही मोदी सरकार को एक के बाद एक झटके लग रहे हैं। पहले महाराष्‍ट्र में एनडीए के सहयोगी शिवसेना के 2019 चुनाव गठबंधन से अलग होकर लड़ने की बात कह चुकी है। वहीं, एक बार फिर पीएम मोदी के लिए बुरी खबर आ रही है। आम बजट में आंध्र प्रदेश को अपेक्षित फंड और विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिलने से आहत तेलुगू देशम पार्टी ने सहयोगी भाजपा के खिलाफ एक बार फिर नाराजगी जाहिर की है।

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन चंद्रबाबू नायडू ने एक कार्यक्रम में साफ कहा कि केंद्र ने आंध्र प्रदेश के साथ अन्याय किया है। जब मैं न्याय मांग रहा हूं तो बीजेपी और YSRCP दोनों मिलकर मुझे ही दोषी ठहरा रहे हैं। पहले कांग्रेस ने आंध्र के साथ अन्याय किया था और अब बीजेपी भी वही कर रही है। उन्होंने कहा कि वह मोदी सरकार के खिलाफ अन्य पार्टियों के समर्थन में अविश्वास प्रस्ताव पेश करने के लिए तैयार हैं, ताकि दक्षिणी राज्य को न्याय मिल सके। हालांकि, उन्होंने यह भी कहा कि यह कदम अंतिम उपाय होगा।

नायडू ने कहा, हमारे कुछ सांसद इस्तीफा देने की बात कर रहे हैं

नायडू ने कहा कि हमारे कुछ सांसद इस्तीफा देने की बात कर रहे हैं। अगर हमारे सांसद इस्तीफा देंगे, तो हमारे राज्य की लड़ाई कौन लड़ेगा। कोई आत्मविश्वास प्रस्ताव अंतिम उपाय नहीं होना चाहिए और हम इस तरह के प्रस्ताव को आसानी से नहीं लाएंगे। हमें कम से कम 54 सांसदों की जरूरत है, लेकिन हमारे सांसदों की संख्या इतनी नहीं है। नायडू ने कहा कि राज्य के हितों की रक्षा करना हमारे लिए सर्वोपरि है। केंद्र सरकार ने पिछले चार वर्षों में हमारे लिए कुछ नहीं किया।

क्या था मामला

दरअसल, बजट में आंध्र प्रदेश को ज्यादा फंड नहीं मिलने से तेलुगू देशम पार्टी के सांसद को दुख हुआ और सासंदों ने बीजेपी का विरोध किया। सांसदों ने इस्तीफा देने की बात की और कहा कि हमें गठबंधन से अलग हो जाना चाहिए। उसके बाद टीडीपी के अध्यक्ष और सीएम चंद्रबाबू नायडू ने पार्टी की इमर्जेंसी बैठक बुलाई थी और मामला शांत करवाया था।

Courtesy: /puridunia

Categories: India

Related Articles