आज से ‘मेघालय मिशन’ पर राहुल गांधी, 2 दिन में करेंगे 3 रैलियां

आज से ‘मेघालय मिशन’ पर राहुल गांधी, 2 दिन में करेंगे 3 रैलियां

मेघालय में 7 दिन बाद विधानसभा चुनाव होने हैं. इस बीच कांग्रेस के प्रचार अभियान के लिए राहुल गांधी मंगलवार से दो दिन के मेघालय दौरे पर हैं. राज्य में दो दिन में राहुल की तीन रैलियां होनी हैं. मेघालय के 60 सीटों के लिए 27 फरवरी को वोट डाले जाएंगे. 3 मार्च को नतीजे का ऐलान होगा.

त्रिपुरा में चुनावी जंग खत्म होने के बाद भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) अब मेघालय पर फोकस कर रही है. ऐसे में कांग्रेस भी कोई कोर-कसर छोड़ना नहीं चाहती. इसी कड़ी में कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राज्य का दौरा कर रहे हैं, ताकि चुनाव से पहले पार्टी कार्यकर्ताओं में ऊर्जा भर सके. बता दें कि इसके पहले राहुल गांधी ने 30 और 31 जनवरी को मेघालय का दौरा किया था.

राहुल गांधी का पूरा शेड्यूल
-कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का दो दिन का कार्यक्रम काफी व्यस्त रहने वाला है. कार्यक्रम के मुताबिक, राहुल गांधी दो रैली करेंगे.

पहली रैली उत्तरी गारो जिले के मेंडीपाथर में मिंगचेनग्राम कल्चरल क्लब प्लेग्राउंड में सुबह 11:30 बजे से दोपहर 1 बजे तक होनी है.
-इसके बाद राहुल गांधी पश्चिमी गारो हिल्स के गौरोबाधा इलाके में दूसरी रैली को संबोधित करेंगे. यह रैली दोपहर 1:30 बजे से 3:00 बजे तक होनी है.
-दोनों रैलियों के बाद शाम को राहुल गांधी पश्चिमी गारो हिल्स में रात गुजारेंगे.
-दूसरे दिन बुधवार को राहुल गांधी जोवाई के चाटबाकु फुटबॉल मैदान में सुबह 11 बजे एक रैली को संबोधित करेंगे.
-इस रैली के बाद राहुल शिलांग जाएंगे, जहां उनका जनसंवाद का कार्यक्रम है.
-इसके बाद राहुल गुवाहाटी से नई दिल्ली के लिए रवाना हो जाएंगे.

राहुल के लिए अहम क्यों है यह दौरा?
उत्तरी-पूर्वी राज्यों में वैसे तो दशकों से कांग्रेस सत्ता में है. लेकिन, इस चुनाव में इतिहास दोहराना कांग्रेस के लिए आसान नहीं होगा. त्रिपुरा के बाद बीजेपी ने इस राज्य में पूरी ताकत झोंक रखी है. बीजेपी ने 60 सीटों में से 47 सीटों पर अपने उम्मीदवार उतारे हैं. ऐसे में मेघालय चुनाव में बीजेपी-कांग्रेस के बीच कड़ी टक्कर होगी.

बीजेपी के अलावा कांग्रेस को नेशनल पीपुल्स पार्टी (NPP) से भी चुनौती मिल रही है. सूत्रों के मुताबिक, चुनाव के बाद अगर हालात बने तो सरकार बनाने के लिए एनपीपी बीजेपी के साथ गठजोड़ कर सकती है. हालांकि, एनपीपी ने चुनाव के पहले या चुनाव के बाद बीजेपी के साथ किसी भी तरह के गठबंधन से इनकार किया है.

अगर बात करें गारो हिल्स की, तो यह क्षेत्र वर्तमान मुख्यमंत्री मुकुल सांगमा का है. सांगमा दक्षिण गारो हिल्स के अंपति विधानसभा क्षेत्र से दो बार चुनाव जीत चुके हैं. वहीं, पूर्वी गारो हिल्स क्षेत्र पर एनपीपी का प्रभाव है.

इस बार मुकुल सांगमा अंपति और सॉन्गसाक दोनों विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ रहे हैं. ऐसे में वो कांग्रेस के लिए बड़ी चुनौती साबित होंगे.

Courtesy: news18.com

Categories: India

Related Articles