PM न बनने पर बोलीं सोनिया- भरोसा था कि मनमोहन सिंह मुझसे बेहतर मुख्यमंत्री होंगे

PM न बनने पर बोलीं सोनिया- भरोसा था कि मनमोहन सिंह मुझसे बेहतर मुख्यमंत्री होंगे

कांग्रेस की पूर्व अध्यक्ष सोनिया गांधी ने आज एक गहन आत्मविश्वासपूर्ण भाषण में अपने सदस्यों, उनकी कमियों और भारत में लोकतंत्र की भूमिका सहित कई विषयों पर बात की। सोनिया गांधी ने आज पहली बार पार्टी अध्यक्ष का पद त्यागने के बाद ये बातें कही हैं।

मुंबई में आयोजित इंडिया टुडे सम्मेलन को संबोधित करते हुए, सोनिया गांधी ने कहा कि राजनीति आज एक अलग दौर से गुजर रही है। लोकतंत्र में खुली बहस की छूट होनी चाहिए, लेकिन आज अभिव्यक्ति की आजादी पर खतरा मंडरा रहा है। उन्होंने कहा कि सत्ता पक्ष विरोध की आवाजों को दबाने की कोशिश कर रहा है और संविधान के सिद्धांतों पर प्रहार किया जा रहा है।

राहुल गांधी को कांग्रेस की कमान सौंपने के बाद पहली बार सोनिया गांधी ने सार्वजनिक मंच में शामिल हुईं और बीजेपी पर बड़ा आरोप लगाया। सोनिया गांधी ने बीजेपी पर निशाना साधते हुए यह भी कहा कि वह राजीव गांधी के साथ यात्रा करने के दौरान कहीं भी जाती थीं, तो हमेशा उस स्‍थान पर स्थित हर बड़े मंदिर जाती थीं, लेकिन कभी भी उन्‍होंने इसका दिखावा नहीं किया।

मनमोहन सिंह मुझसे बेहतर PM होंगे

इस दौरान सोनिया ने पीएम न बनने वाले सवालों के जवाब में कहा कि मुझे मालूम था कि मनमोहन सिंह मुझसे बेहतर PM होंगे, क्योंकि मुझे अपनी सीमाओं का ज्ञान था। इसलिए हमने मनमोहन सिंह को प्रधानमंत्री बनाया। सोनिया ने कहा कि कांग्रेस को संगठन के स्तर पर लोगों से जुड़ने का नया तरीका विकसित करने की जरूरत है। उन्होंने राहुल गांधी की क्षमताओं में भरोसा भी जताया।

कॉन्क्लेव में सोनिया गांधी ने एक अहम बयान देते हुए यह भी कहा कि मुझे स्वाभाविक तौर पर भाषण देना नहीं आता, इसलिए सभी मुझे नेता नहीं बल्कि भाषण पढ़ने वाला कहते थे।

क्‍या चार साल में ही हुई तरक्‍की

सोनिया गांधी ने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए सवाल भी किया कि क्‍या चार साल पहले बीजेपी की सरकार बनने के बाद से ही देश तरक्‍की, विकास और समृद्धि की ओर अग्रसर हुआ है. क्‍या उससे पहले तक देश में तरक्‍की, विकास और खुशहाली जैसी कोई चीज नहीं थी। उन्‍होंने कहा कि क्‍या बीजेपी का ऐसा दावा हमारे लोगों की बुद्धिमता की बेइज्‍जती नहीं है।

Categories: India

Related Articles