योगी राज में अपराधी और भाजपा विधायक दिखे साथ, सिग्बतुल्लाह अंसारी ने जताई बड़ी साज़िश की आशंका

योगी राज में अपराधी और भाजपा विधायक दिखे साथ, सिग्बतुल्लाह अंसारी ने जताई बड़ी साज़िश की आशंका

आपको बताते चलें की उत्तर प्रदेश का मुख्यमन्त्री बनने के तुरंत बाद आदित्यनाथ योगी ने कहा था की अपराधी और बदमाश जल्द से जल्द प्रदेश छोड़ दें उनकी जगह या तो जेल में होगी या फिर प्रदेश के बाहर जिससे कयास लगाये जा रहे थे कि प्रदेश को अपराधमुक्त बनने में इससे देर नहीं लगेगी मगर भाजपा का ये दावा भी तब महज जुमला और खोखला साबित हुआ जब चंदौली के भाजपा विधायक ही गाज़ियाबाद के इनामी बदमाश अनिल भाटी को साथ लेकर घूमते दिखाई दिए।

बहुजन समाज पार्टी के नेता सिग्बतुल्लाह अंसारी ने इसपर कड़ी प्रतिक्रिया दी है,सिग्बतुल्लाह अंसारी ने मुख्यमंत्री योगी को घेरते हुए कहा कि यही भाजपा का दोहरा चरित्र है जो खुद तो अपराधमुक्त प्रदेश की बात करते हैं मगर उन्ही के विधायक इनामी और कुख्यात बदमाश से कंधे से कंधा मिलाकर चलने में सबसे आगे आगे हैं।

अब्बास कहते हैं कि भाजपा विधायक सुशील सिंह सत्ता का दुरपयोग करते हुए जिस तरह कुख्यात बदमाशों को संरक्षण दे रहे हैं उससे साफ़ ज़ाहिर हैं कि ये शरीफ और सम्मानित समाज के लोगों के लिए अच्छे संकेत नहीं हैं।यहाँ गौर करने वाली बात ये भी है की विधायक सुशील सिंह माफ़िया ब्रजेश सिंह के भतीजे भी हैं।

 

गौरतलब है कि मऊ विधायक मुख़्तार अंसारी के ऊपर हमले में उसरी चट्टी हत्याकांड को लेकर न्यायलय में ब्रजेश सिंह के खिलाफ गवाही होनी है जिसमे मुख़्तार अंसारी मुख्य गवाह हैं और परिवार के लोग पहले से आशंका जता रहे हैं कि गवाहों की जान को खतरा है।

सोशल मीडिया में अनिल भाटी के साथ ब्रजेश सिंह के भतीजे भाजपा विधायक सुशील सिंह की फोटो वायरल होने के बाद सिग्बतुल्लाह अंसारी ने अंदेशा ज़ाहिर करते हुए ये भी कहा कि छत्तीसगढ़ और पश्चिम के पेशेवर अपराधी को संरक्षण देकर बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं।

कौन है बदमाश अनिल भाटी-अनिल भाटी पर माफिया ब्रजेश सिंह के विरोधी माफिया डॉन मुन्ना बजरंगी के साले पुष्पजीत सिंह और उनके करीबी तारिक की हत्या का आरोप भी है और अनिल भाटी को एसटीएफ सहित ग्रेटर नोएडा की पुलिस भी ढूंढ रही है साथ ही अनिल भाटी पर 16 नवम्बर को को ग्रेटर नोएडा के बिसरख थाना क्षेत्र में भाजपा नेता शिव कुमार यादव सहित उनके ड्राईवर बली नाथ वा निजी अंगरक्षक रईसपाल की हत्या में भी हाथ बताया जाता है जिसके बाद अनिल भाटी पर 50 हज़ार का इनाम भी घोषित किया जा चूका है।

Categories: Politics
Tags: BJP, sibhutulal, yogi

Related Articles