यूपी उपचुनाव नतीजे : गोरखपुर से बीजेपी तो फूलपुर से सपा प्रत्याशी आगे

यूपी उपचुनाव नतीजे : गोरखपुर से बीजेपी तो फूलपुर से सपा प्रत्याशी आगे

फूलपुर। उत्तर प्रदेश के फूलपुर और गोरखपुर लोकसभा सीट पर हुए उप चुनाव के परिणाम आज घोषित होंगे। सुबह 8.00 बजे से मतों की गिनती शुरू हो गई है। शुरुआती रुझानों में गोरखपुर से बीजेपी के उपेन्द्र दत्त शुक्ला और फूलपुर से सपा के नागेन्द्र सिंह पटेल आगे चल रहे हैं।

 

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गोरखपुर सीट छोड़ने और उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की वजह से सीट खाली होने पर 11 मार्च को उपचुनाव हुए थे, जिसके वोटों की गिनती आज हो रही है। कहा जा रहा है कि दोपहर 12 बजे तक तस्वीर साफ हो जाएगी।

गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट हाई प्रोफाइल सीट के तौर पर देखा जाता रहा है। यह चुनाव मुख्यमंत्री के लिए किसी अग्निपरीक्षा से कम नहीं है। गोरखपुर की सीट पर पांच साल तक उनका कब्ज़ा रहा है। अब मुख्यमंत्री के बनने के बाद यूपी के सबसे बड़े नेता बनकर उभरें हैं। ऐसे में पार्टी को बहुत सी उम्मीदें हैं। वहीँ गोरखपुर से बसपा के समर्थन के बाद सपा के सिंबल पर चुनाव लड़ रहे निषाद पार्टी के इंजीनियर प्रवीण निषाद मैदान में हैं। ऐसे में लडाई तगड़ी मानी जा रही है।

गोरखपुर सीट बीजेपी के लिए क्यों महत्वपूर्ण है

1952 में पहली बार गोरखपुर लोकसभा सीट के लिए चुनाव हुआ और कांग्रेस ने जीत दर्ज की। इसके बाद गोरक्षनाथ पीठ के महंत दिग्विजयनाथ 1967 निर्दलीय चुनाव जीता। इस सीट पर 1970 में योगी आदित्यनाथ के गुरु अवैद्यनाथ ने निर्दलीय प्रत्याशी के रूप में जीत दर्ज की थी। 1971 से 1989 के बीच एक बार भारतीय लोकदल तो कांग्रेस का इस सीट पर कब्ज़ा रहा।

उसके बाद 1970 में योगी आदित्यनाथ के गुरु अवैद्यनाथ ने निर्दलीय जीत दर्ज की। 1971 से 1989 के बीच एक बार भारतीय लोकदल तो कांग्रेस का इस सीट पर कब्ज़ा रहा। 1989 के बाद से इस सीट पर गोरक्षपीठ का कब्ज़ा रहा। महंत अवैद्यनाथ 1998 तक सांसद रहे। उनके बाद 1998 से लगातार पांच बार योगी आदित्यनाथ का कब्ज़ा रहा।

अब इन दोनों सीटों पर जीत बीजेपी के लिए अहम जैसा है। केंद्र में चार साल और उत्तर प्रदेश में करीब एक साल से बीजेपी सत्तारूढ़ है। ऐसे में जनता सरकार के कामकाज की भी परीक्षा लेगी। वहीँ कांग्रेस, एसपी और बीएसपी तीनों इस चुनाव के जरिए अपनी मजबूती टेस्ट करना चाहते हैं। सपा इस चुनाव के जरिये एक बार फिर खड़े होने की कोशिश करेगी। एक बार फिर इस चुनाव में मुख्य तौर पर जाति कार्ड पर ही जोर है।

फूलपुर 

अगर फूलपुर की बात करें तो यहाँ 37. 39 फीसदी वोटिंग हुई थी। भाजपा के लिहाज से यह सीट भी काफी अहम है। भाजपा ने फूलपुर सीट से कौशलेन्द्र सिंह पटेल को उम्मीदवार बनाया है। वहीं, सपा ने नागेन्द्र सिंह पटेल को मैदान में उतारा है। वहीं, कांग्रेस ने फूलपुर से मनीष मिश्र को टिकट दिया है। बसपा ने उपचुनाव में प्रत्याशी नहीं खड़े किए हैं। बल्कि वह सपा को समर्थन दे रही है।  आपको बता दें कि गोरखपुर सीट के लिये 10 और फूलपुर सीट पर 22 उम्मीदवार मैदान में हैं।

Courtesy: puridunia.

Categories: Politics

Related Articles