BJP सांसद के रूप की गई टिप्पणी को लेकर सिद्धू ने मनमोहन सिंह से मांगी माफी, कहा- ‘आपके चरणों में सर रखकर मैंने गंगा नहा ली’

BJP सांसद के रूप की गई टिप्पणी को लेकर सिद्धू ने मनमोहन सिंह से मांगी माफी, कहा- ‘आपके चरणों में सर रखकर मैंने गंगा नहा ली’

कांग्रेस के 84वें महाधिवेशन के दूसरे व आखिरी दिन रविवार (18 मार्च) पूर्व क्रिकेटर और पंजाब सरकार के मंत्री नवजोत सिंह सिद्धू अपने चिरपरिचित अंदाज से महफिल में छा गए और जमकर तालियां बटोरी। उन्होंने पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से माफी मांगी और कहा कि, ‘मुझे आपको पहचानने में 10 साल का समय लगा। मैं माफी मांगता हूं। मैंने गंगा नहा ली सर, आपके चरणों में सर रखकर… आप सरदार हैं और असरदार भी।’

समाचार एजेंसी भाषा के मुताबिक, मनमोहन की तारीफ करते हुए सिद्धू ने कहा कि ‘जो आपके मौन ने कर दिखाया, वो बीजेपी का शोर-शराबा नहीं कर पाया, ये बात मुझे 10 साल बाद समझ आई।’ सिद्धू ने कहा कि, ‘कांग्रेस हारी होगी तो किसी नेता की वजह से, तुम्हारी (कार्यकर्ता) वजह से नहीं, तुम तो सिकंदर हो, तुम तो शेरों के शेर बब्बर शेर हो। तुम कभी एक्स नहीं होते, तुम यानी कार्यकर्ता।’

पार्टी के 84वें महाधिवेशन में पेश आर्थिक प्रस्ताव पर बोलने के लिए ज्यादातर वक्ताओं को 3 मिनट का समय आवंटित किया गया था, लेकिन सिद्धू मंच पर आए और बोले तो करीब 20 मिनट तक बोलते रहे। सिद्धू के पूरे संबोधन के दौरान कांग्रेस कार्यकर्ताओं में गजब का उत्साह देखने को मिला।

उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी पर निशाना साधा और कहा कि कांग्रेस में उनका आना ‘घर वापसी’ है। सिद्धू ने अपने संबोधन में कांग्रेस संसदीय दल की अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की खूब तारीफ कीं और कहा कि अगले साल लाल किले पर राहुल गांधी तिरंगा फहराएंगे।

बता दें कि बीजेपी में रहे सिद्धू ने मनमोहन सिंह की आलोचना करते हुए पंजाब की एक रैली में पूर्व पीएम को पप्पू प्रधानमंत्री और रबड़ के गुड्डे जैसा बताया था। उस समय उन्होंने कहा था कि जिस तरह महंगाई ने लोगों का जीना मुहाल कर दिया है, उससे तो लगता है कि वह अर्थशास्त्री नहीं, अनर्थ-शास्त्री हैं। साथ ही उन्होंने कहा था कि आप सरकार हैं लेकिन असरदार नहीं।

Courtesy: .jantakareporter

Categories: India

Related Articles