मुश्किल दौर से गुजर रहे अभिनेता इरफान खान ने सोशल मीडिया पर लिखा इमोशनल पोस्ट

मुश्किल दौर से गुजर रहे अभिनेता इरफान खान ने सोशल मीडिया पर लिखा इमोशनल पोस्ट

बॉलीवुड अभिनेता इरफान खान इन दिनों एक ‘दुर्लभ बीमारी’ से पीड़ित है और पिछले दिनों उन्होंने अपनी बिमारी को लेकर खुलासा भी किया था। कुछ दिनों पहले इरफान खान ने सोशल मीडिया के जरीए अपने फैंस और मीडिया को बताया था कि, उन्हें न्यूरोइंडोक्राइन ट्यूमर है और वो इसके इलाज के लिए विदेश जाएंगे। बता दें कि, बॉलीवुड स्टार्स और उनके फैंस उनके शीघ्र स्वास्थ्य के लिए प्रार्थना कर रहें है।

 

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, रविवार को इरफान खान अपना इलाज कराने लंदन चले गए हैं और उनका इलाज शुरू हो चुका है। वहीं, मुश्किल दौर से गुजर रहे अभिनेता ने इसी बीच इंस्टाग्राम पर एक परछाई वाला फोटो शेयर करते हुए इमोशनल पोस्‍ट लिखा है, जो अब सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है। इरफान ने इंस्टाग्राम पोस्ट की शुरूआत जर्मन के कवि रायनर मारिया रिल्के से की।

अपनी कविता में उन्होंने लिखा कि, ‘भगवान हमारे साथ चुपचाप चलता है और बहुत धीमी आवाज में हमसे बात करता है। वह एक लौ की तरह है जिसकी परछाई के नीचे आप चलते हैं। जिंदगी में जो भी हो रहा है उसे होने दें फिर चाहे वो अच्छा हो या बुरा। बस चलते रहे क्योंकि कोई भी भावना आखिरी नहीं है। इसके पास ही एक जगह है जिसे जिंदगी कहते हैं। आपको इसके बारे में इसकी गंभीरता से पता चला है, मुझे अपना हाथ दो’।

 

बता दें कि, अभी कुछ दिनों पहले ही अभिनेता इरफ़ान खान ने अपनी बिमारी को लेकर सोशल मीडिया पर खुलासा किया था। इरफान ने ट्वीट कर बताया था कि, उन्हें न्यूरोइंडोक्राइन ट्यूमर है और वो इसके इलाज के लिए विदेश जाएंगे। बता दें कि, इरफान की बीमारी के बारे में खुलासा होने के बाद से उनके फैन्स उनकी अच्छी सेहत की कामना कर रहे हैं।

बता दे कि इससे पहले इरफान खान ने खुद सोमवार(5 मार्च) को ट्वीट करते हुए लिखा था कि, ‘कभी-कभी आप जागते हैं और पाते हैं कि आपकी जिंदगी पूरी तरह से हिल चुकी है, बीते 15 दिन में मेरी जिंदगी सस्पेंस स्टोरी बन गई है। मुझे इसके बारे में अंदाजा भी नहीं था कि दुर्लभ कहानियों की तलाश करते-करते मुझे एक दुर्लभ बीमारी मिल जाएगी।’

उन्होंने आगे लिखा कि, हालांकि मैंने कभी आशा का दामन नहीं छोड़ा और हमेशा अपने पसंद के लिए लड़ाई लड़ी और हमेशा लड़ूंगा। मेरा परिवार और मेरे दोस्त मेरे साथ हैं और हम सब फिलहाल इस बीमारी से निकलने के अच्छे रास्ते तलाश रहे हैं। इस कोशिश के दौरान कृपया अटकलें न लगाएं क्योंकि एक सप्ताह-दस दिन के भीतर मैं खुद ही आपके साथ अपनी कहानी साझा करूंगा, तब तक मेरे लिए अच्छे की कामना करें।

Courtesy: jantakareporter.

Categories: Entertainment

Related Articles