‘किसानों’ के बाद देश का ‘युवा’ सड़कों पर,रेलवे में नौकरी की मांग को लेकर हजारों छात्र धरने पर बैठे

‘किसानों’ के बाद देश का ‘युवा’ सड़कों पर,रेलवे में नौकरी की मांग को लेकर हजारों छात्र धरने पर बैठे

रोजगार को लेकर अब युवा सड़कों पर है। मुंबई में रेलवे में नौकरी की मांग को लेकर हजारों छात्र पटरियों पर बैठकर प्रदर्शन कर रहे है। प्रदर्शन कर रहे इन छात्रों ने मुंबई की लाइफ लाइन कहीं जाने वाली लोकल ट्रेनों को ही अपने विरोध प्रदर्शन का ठिकाना बना लिया है। ये सभी छात्र माटुंगा और छत्रपति शिवाजी टर्मिनिल रेलवे स्टेशन के बीच रेलवे ट्रैक को जाम कर दिया है।

दरअसल प्रदर्शन कर रहे छात्रों की मांग है नौकरी में से 20 फीसदी कोटा को हटा दिया जाए और स्थायी नौकरी दे दी जाए। प्रेंटिस पर काम करने वाले ये स्टूडेंट सालों काम करने के बाद इन्हें नौकरी नहीं मिल पा की वजह से छात्र ने अब विरोध प्रदर्शन का रास्ता चुन लिया है।

वही इस मामले को अब विपक्षी दलों का भी छात्रों का समर्थन मिल गया। कांग्रेस और एमएनएस ने इन छात्रों की मांगों को जायज़ बताया है। दूसरी तरफ इस विरोध प्रदर्शन के चलते मुंबई थम गई सेंट्रल लाइन पर करीब 30 ट्रेनें रद्द हो गई हैं। रेलवे की ओर से यात्रियों के लिए हेल्पलाइन नंबर भी जारी किया गया है।

प्रदर्शन के असर को देखते हुए कुर्ला इलाके में बेस्ट की अतिरिक्त बसें चलाई जाएंगी ताकि यात्रियों को अधिक परेशानियों का सामना ना करना पड़े। प्रर्दशन को देखते हुए सेंट्रल रेलवे भी एक्टिव हो गया है।

बता दे कि पिछले 4 सालों में अभी तक रेलवे में कोई भर्ती नहीं हो पाई है,, इस मामले अब तक 10 से ज्यादा छात्र आत्महत्या कर चुके हैं।छात्रों की मांग है जब तक उनकी मांगें खुद रेल मंत्री पियूष गोयल नहीं सुनते है वो पटरी छोड़कर कहीं नहीं जा रहें है।

Courtesy: boltaup

Categories: India