दलितों के कार्यक्रम में पहुंचे अमित शाह, छीना गया माइक और

दलितों के कार्यक्रम में पहुंचे अमित शाह, छीना गया माइक और

शुक्रवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह कर्नाटक के मैसूर में दलितों के एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे. लेकिन यहां उनके सामने ही हंगामा होने लगा. यहां के राजेंद्र कलामंदिर में ये सब तब हुआ जब बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह अपनी बात रखने के लिए मंच पर पहुंचे. ठीक उसी समय वहां जमकर नारेबाजी और शोर-शराबा शुरू हो गया. हालात ऐसे बन गए कि अमित शाह कुछ भी नहीं बोल सके.

 

दरअसल इस मंच पर अमित शाह के साथ केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार हेगड़े भी मौजूद थे. उनको देखकर एक शख्‍स ने उठकर अमित शाह से सवाल पूछा कि जब हेगड़े संविधान बदलना चाहते हैं फिर भी अब तक उनकी कैबिनेट में जगह क्‍यों बरकरार है. उस शख्‍स ने कहा कि या तो आप अनंत कुमार को बाहर का रास्‍ता दिखाइये या बताइये कि क्‍या बीजेपी अनंत कुमार के बयान से सहमत है?

दलित शख्‍स द्वारा सवाल पूछने की देर थी कि उससे माइक छीन लिया गया. इसके बाद उसे कार्यक्रम से बाहर कर दिया गया. सिक्‍युरिटी द्वारा शख्‍स को बाहर निकालने पर काफी हंगामा मचा. कई दलित सदस्‍य अपनी सीटों से उठकर बाहर चल गए. बता दें कि अनंत हेगड़े ने पिछले साल दिसंबर में कर्नाटक में एक सभा को संबोधित करते हुए संविधान को लेकर विवादित टिप्‍पणी की थी. उन्‍होंने कहा था कि धर्मनिरपेक्ष और प्रगतिशील होने का दावा वे लोग करते हैं जिन्‍हें अपने मां-बाप के खून का पता नहीं होता है

भाजपा नेता ने उस वक्‍त कहा था कि लोगों को अपनी पहचान धर्मनिरपेक्ष के बजाय धर्म और जाति के आधार पर बतानी चाहिए. उन्‍होंने इस सोच के साथ संविधान में बदलाव की भी बात कह डाली थी.

कुलमिलाकर कर्नाटक चुनाव प्रचार के दौरान बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह लगातार परेशानियों से दो-चार हो रहे हैं. सबसे पहले तो उनकी जुबान फिसली थी, फिर उनके ट्रांसलेटर ने उनके भाषण के कन्नड़ ट्रांसलेशन में गलती की और अब उन्‍हें दलितों के विरोध का सामना करना पड़ा है.

Courtesy: openkhabar

Categories: India

Related Articles