महाराष्ट्र BJP मंत्री के रिश्तेदार ने किया था ‘जज लोया’ का पोस्टमॉर्टम, रवीश कुमार बोले- बहुत डरावना है

महाराष्ट्र BJP मंत्री के रिश्तेदार ने किया था ‘जज लोया’ का पोस्टमॉर्टम, रवीश कुमार बोले- बहुत डरावना है

कैरवांन पत्रिका जज लोया की मौत की जांच को लेकर लगातार सागर की गहराइयों में उतरती जा रही है। लोकतंत्र की उन अदृश्य शक्तियों का भी लोहा मानना चाहिए जिन्होंने लीपापोती की तमाम कोशिशों में सुराख़ कर दी है और नए नए सुराग बताए हैं।

नई रिपोर्ट हाड़ कंपा देने वाली है। कैरवान ने इस स्टोरी का हिन्दी अनुवाद भी किया है। आप इसे पढ़िए और समझिए कि क्या हो रहा है इस देश में। प्लीज़ सारा काम छोड़ कर इस लेख को लाखों करोड़ों पाठकों तक पहुंचा दें।

आम तौर पर लिंक शेयर करने पर पेज के पहुंचने की रफ्तार कम हो जाती है मगर आप यह काम गंभीरता से करेंगे तो एक जज की हत्या की कोशिशों की बात लोगों तक पहुंच सकेगी।

नागपुर के शासकीय वैद्यकीय महाविद्यालय के फॉरेन्सिक मेडिसिन विभाग में किए गए जज बीएच लोया के पोस्‍ट-मॉर्टम से जुडी परिस्थितियों पर दो महीने की जांच के बाद जो तथ्‍य सामने आए हैं, वे सिहरा देने वाले हैं।

यह पोस्‍ट-मॉर्टम एक ऐसे डॉक्‍टर की निगरानी में किया गया जिसने बाकायद लिखवाया था कि कौन सा विवरण पोस्‍ट-मॉर्टम रिपोर्ट में जोड़ना है और क्‍या घटाना है। बाद में कई पोस्‍ट-मॉर्टम रिपोर्टों में घपलेबाज़ी की शिकायत पर इस डॉक्‍टर के खिलाफ जीएमसी में जांच भी चली थी।

यह डॉक्‍टर अब तक लोया मामले में किसी भी मेडिकल या कानूनी दस्‍तावेज़ से अपना नाम दूर रखने में कामयाब रहा है। अब तक जज लोया की मौत के मामले में हुई मीडिया कवरेज की नज़र से भी यह डॉक्‍टर साफ़ बचता रहा है।

Courtesy: boltaup

Categories: India

Related Articles

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*