कांग्रेस ने ट्वीट किया आसाराम संग मोदी का वीडियो, व्यक्ति की पहचान उसकी संगत से ही होती है

कांग्रेस ने ट्वीट किया आसाराम संग मोदी का वीडियो, व्यक्ति की पहचान उसकी संगत से ही होती है

नाबालिग से रेप करने के आरोप में आध्यात्मिक गुरु आसाराम को दोषी करार दिया गया है. जोधपुर कोर्ट के इस फैसले के बाद राजनीतिक टिप्पणियां भी आ रही हैं. इस बीच कांग्रेस ने आसाराम और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के एक वीडियो को ट्वीट कर निशाना साधा है. कांग्रेस ने ट्वीट किया कि व्यक्ति की पहचान उसकी संगत से ही होती है.

कांग्रेस की ओर से जारी वीडियो में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और आसाराम के साथ में फुटेज दिखाया गया है. इसके अलावा आसाराम की तारीफ करते हुए उनके भाषण का अंश भी दिखाया गया है. जिसमें मोदी कह रहे हैं कि जीवन में जब मुझे कोई नहीं जानता था, उस समय से बापू के आशीर्वाद हमें मिलते रहे हैं.

वीडियो में आसाराम भी नरेंद्र मोदी की तारीफ कर रहे हैं. मोदी की तारीफ करते हुए आसाराम कह रहे हैं कि जब धर्मसत्ता और राजसत्ता जब मिलते हैं, तो प्रजा का बेड़ा पार हो जाता है.

गौरतलब है कि रेप का मामला सामने आने से पहले आसाराम के कई कार्यक्रमों में बड़े नेता शामिल होते हुए आए हैं. इनमें सांसद, मुख्यमंत्री से लेकर प्रधानमंत्री तक भी शामिल हैं.

मोदी जी के गुरु आसाराम नाबालिक रेप केस में दोसी करार, इस विडियो में देखिए दोनों कैसे एक दूसरे का गुण गान कर रहे हैं

Posted by Amethi Rae Bareli ki Kahani on Tuesday, 24 April 2018

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जब गुजरात के मुख्यमंत्री थे, तब अक्सर आसाराम के कार्यक्रमों में जाया करते थे. इसके अलावा पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी, बीजेपी के दिग्गज नेता लालकृष्ण आडवाणी समेत अन्य नेता भी आसाराम के कार्यक्रमों में उनके कसीदे पढ़ते हुए दिखाई दिए हैं.

हालांकि, ऐसा नहीं कि आसाराम के कार्यक्रम में सिर्फ एक ही पार्टी के नेता शामिल होते आए हों. कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह, जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला भी आसाराम के कार्यक्रमों में शामिल हो चुके हैं.

गौरतलब है कि आध्यात्मिक गुरु और कथावाचक आसाराम को जोधपुर की कोर्ट ने नाबालिग लड़की से रेप केस में दोषी ठहराया है. 2013 में आसाराम के खिलाफ यूपी के शाहजहांपुर की रहने वाली एक नाबालिग लड़की ने रेप का सनसनीखेज आरोप लगाया था. इस मामले में आसाराम के साथ ही उसकी राजदार शिल्पी और शरतचंद्र भी दोषी ठहराए गए हैं, जबकि प्रमुख सेवादार शिवा और रसोइया प्रकाश को कोर्ट ने बरी कर दिया है.

 

Categories: India

Related Articles