BCCI ने राजीव गांधी खेल रत्न के लिए विराट की सिफारिश की, द्रोणाचार्य अवॉर्ड के लिए द्रविड़ का नाम

BCCI ने राजीव गांधी खेल रत्न के लिए विराट की सिफारिश की, द्रोणाचार्य अवॉर्ड के लिए द्रविड़ का नाम

कोलकाता. बीसीसीआई ने राजीव गांधी खेल रत्न सम्मान के लिए विराट कोहली के नाम की सिफारिश की है। बोर्ड इससे पहले 2016 में भी उनके नाम की सिफारिश कर चुका है। बतौर कोच देश की अंडर-19 टीम को वर्ल्ड चैंपियन बनाने वाले राहुल द्रविड़ का नाम द्रोणाचार्य अवॉर्ड के लिए भेजा गया है। सुनील गावस्कर का नाम भी ध्यानचंद लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड के लिए खेल मंत्रालय को दिया गया है। बीसीसीआई की प्रशासकों की समिति के प्रमुख विनोद राय ने इन नामों की पुष्टि की।

2016 में सिंधु, साक्षी और दीपा से पीछे रह गए थे कोहली
– बोर्ड ने 2016 में भी मंत्रालय से कोहली के नाम की सिफारिश की थी, लेकिन उस साल ओलिम्पिक में बेहतरीन प्रदर्शन करने वाली पीवी सिंधु, साक्षी मलिक और दीपा कर्माकर को इस अवॉर्ड से सम्मानित किया गया था। ये दूसरी बार है जब बोर्ड ने इस अवाॅर्ड के लिए फिर से कोहली का नाम दिया है।
– कोहली इस समय क्रिकेट के तीनों प्रारूपों में जबरदस्त प्रदर्शन कर रहे हैं। टेस्ट, वनडे और टी-20 तीनों में ही भारत की कप्तानी करने वाले कोहली ने पिछले सीजन में भारत को इंग्लैंड, न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलिया, श्रीलंका समेत कई टीमों के खिलाफ सीरीज में जीत दिलाई है। वहीं, इस साल साउथ अफ्रीका के खिलाफ 2-1 से टेस्ट सीरीज हारने के बाद वनडे और टी-20 में एकतरफा प्रदर्शन करते हुए विदेशी सरजमीं पर बड़ी जीत दिलाने में अहम भूमिका निभाई।
– अगर कोहली के खेल रत्न मिलता है तो वे सचिन तेंदुलकर (1998) और महेंद्र सिंह धोनी (2007) के बाद इसे पाने वाले तीसरे क्रिकेटर होंगे। कोहली को 2017 में पद्मश्री और 2013 में अर्जुन अवार्ड से सम्मानित किया जा चुका है।

द्रोणाचार्य अवॉर्ड के लिए नाम भेजना बंद कर चुका था बोर्ड
– बीसीसीआई ने लंबे समय बाद किसी कोच का नाम द्रोणाचार्य अवॉर्ड के लिए भेजा है। ऐसा माना जाता है कि कई बार खिलाड़ियों की सफलता का श्रेय लेने के लिए अलग-अलग कोच होड़ में होते हैं। इस स्थिति को देखते हुए बीसीसीआई ने द्रोणाचार्य अवॉर्ड के लिए नाम भेजने बंद कर दिए थे। हालांकि, अंडर-19 टीम के लिए राहुल द्रविड़ के योगदान को देखते हुए बोर्ड ने इस साल खेल मंत्रालय के पास उनके नाम की सिफारिश की है।

इतिहास में किसी क्रिकेटर को नहीं मिला ध्यानचंद अवॉर्ड
बीसीसीआई ने अपने समय के महानतम बल्लेबाज सुनील गावस्कर का नाम ध्यानचंद लाइफटाइम अचीवमेंट अवॉर्ड के लिए दिया है। गावस्कर टेस्ट क्रिकेट में सबसे पहले 10 हजार रन बनाने वाले बल्लेबाज हैं। उन्हें इससे पहले पद्म भूषण अवॉर्ड से नवाजा जा चुका है। गौरतलब है कि 2002 में शुरू होने से लेकर आज तक किसी क्रिकेट खिलाड़ी को ये अवॉर्ड नहीं दिया गया।

 

Categories: Sports

Related Articles