हिंदुओं को खुश करने के लिए ‘योगी’ जैसे लोग बच्चों की जान बचाने वालों को जेल में डाल दे रहे हैं, हिंदुओं तुम चुप क्यों हो?

हिंदुओं को खुश करने के लिए ‘योगी’ जैसे लोग बच्चों की जान बचाने वालों को जेल में डाल दे रहे हैं, हिंदुओं तुम चुप क्यों हो?

आज डाक्टर कफील को इलाहाबाद हाईकोर्ट ने ज़मानत पर रिहा करने का हुक्म दे दिया, डाक्टर कफील आठ महीने से जेल में थे।

डाक्टर कफील को बिना किसी कसूर के उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री ने खुद व्यक्तिगत रुची लेकर जेल में डलवाया था। डाक्टर कफील के दो कसूर थे।

पहला यह कि जिस समय उत्तर प्रदेश में सरकारी अस्पताल में सरकारी लापरवाही से बड़ी तादात में बच्चे बिना आक्सीजन के मर गये थे।

और खुद को बड़ा तीसमारखां बताने वाले मुख्यमंत्री की खुले आम भद्द पिट रही थी।

उसी समय डाक्टर कफील ने अपने जेब से पैसे खर्च करके आक्सीजन का इंतजाम किया और कई बच्चों की जान बचाई। सारे देश में योगी के नाम पर थू थू और डाक्टर कफील के लिए वाह वाह होने लगी।

इस बात से मुख्यमंत्री योगी बुरी तरह डर गया और उसने डर कर डाक्टर कफील को फर्जी मामले में जेल में डलवा दिया।

डाक्टर कफील की दूसरी गलती यह थी कि वो मुसलमान थे। योगी जैसे साम्प्रदायिक गुंडे तो मुसलमानों के खिलाफ नफरत फैला कर ही सत्ता पर काबिज़ हुए हैं।

डाक्टर कफील को जेल में डाल कर योगी ने साम्प्रदायिक हिन्दुओं को खुश करने की कोशिश की। अब यह भारत के हिन्दुओं को खुद के बारे में सोचने का समय है कि अगर उन्हें खुश करने के लिए बच्चों की जान बचने वाले डाक्टर को जेल में डाला जाता है। तो इस पाप का बोझ किसने सर पर होगा ?

जब किसी पर उसके मजहब जाति या लिंग के आधार पर अन्याय किया जाता है तो ज़ुल्म करने वाले के साथ साथ उसे समर्थन देने वाले भी बराबर के ज़िम्मेदार होते हैं।

इस देश के मुसलमान जिस तरह से चुपचाप ज़ुल्म सहन कर रहे हैं उसे देख कर मेरे मन में उनके लिए प्रेम बढ़ता जा रहा है।

हम सब को इस साम्प्रदायिकता आधारित ज़ुल्म करने वालों को समर्थन देना तुरंत बंद कर देना चाहिए। वरना हमारा नाम इतना बदनाम हो जाएगा कि हमारे बच्चे अपनी पहचान बताने में शर्म महसूस करेंगे

Courtesy: Boltaup

Categories: Politics

Related Articles