कर्नाटक चुनाव: बीजेपी नेता के फ्लैट से हजारों वोटर आईडी कार्ड बरामद, चुनाव आयोग ने कराई रिपोर्ट

कर्नाटक चुनाव: बीजेपी नेता के फ्लैट से हजारों वोटर आईडी कार्ड बरामद, चुनाव आयोग ने कराई रिपोर्ट

बेंग्लुरु में एक फ्लैट से हजारों की तादाद में वोटर आईडी कार्ड बरामद हुए हैं। यह फ्लैट एक बीजेपी नेता का है और इसमें किराए पर रहने वाला व्यक्ति इसी बीजेपी नेता का दत्तक पुत्र है।

कर्नाटक चुनाव में अब धांधली करने और शरारत कर कुछ इलाकों में चुनाव रद्द कराने की कोशिशें किए जाने की खबरे आ रही हैं। मंगलवार को बेंग्लुरु के जलाहाल्ली इलाके में एक फ्लैट से बड़ी तादाद में वोटर आईडी कार्ड बरामद हुए। इस बरामदगी के बाद कांग्रेस और बीजेपी के बीच तूतू-मैंमैं शुरु हो गई है। उधर चुनाव आयोग ने इस मामले पर देर रात प्रेस की। आयोग का कहना है कि यह इलाका राज राजेश्वरी निर्वाचन क्षेत्र में पड़ता है।

चुनाव आयोग के अधिकारी संजीव कुमार ने बताया कि उन्होंने खुद इस फ्लैट में जाकर मुआयना किया। उनके मुताबिक वहां से 9746 वोटर आईडी कार्ड बरामद हुए हैं। इन्हें छोटे बंडलों में बांधकर रखा गया था और हर बंडल पर फोन नंबर और नाम लिखा था।

इस बरामदगी के बाद बीजेपी ने आनन-फानन इस मुद्दे पर आरोप कांग्रेस पर लगा दिया, और चुनाव रद्द करने की मांग करते हुए पुलिस से शिकायत भी की।

लेकिन जैसे ही यह बात सामने आई कि जिस फ्लैट में वोटर आईडी कार्ड बरामद हुए हैं, वह एक बीजेपी नेता का और उसमें रहने वाला व्यक्ति इस बीजेपी नेता का दत्तक पुत्र है, तो बीजेपी खेमे में सन्नाटा छा गया।इस मामले पर कांग्रेस मीडिया प्रभारी रणदीप सुरजेवाला ने बेंगलुरु में प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि बीजेपी इस तरह कांग्रेस पर इल्जाम लगाकर अपनी तरफ ध्यान आकर्षित करना चाहती है।

सुरजेवाला ने कहा कि यह वोटर आईडी कार्ड ना तो पुलिस ने बरामद किए हैं ना ही चुनाव आयोग ने बल्कि इन्हें बीजेपी कार्यकर्ता ने बरामद किया है। उन्होंने बताया कि जिस फ्लैट से वोटर आईडी कार्ड बरामद हुए हैं वो फ्लैट मंजुला नंजामुरी का है, जो कि बीजेपी की नेता हैं. जबकि फ्लैट में रहने वाला व्यक्ति उन्हीं का बेटा राकेश है। सुरजेवाला ने कहा कि 2015 में राकेश ने बीजेपी के टिकट पर निगम चुनाव लड़ा था लेकिन वो हार गए थे।

सुरजेवाला ने इस मुद्दे पर चार सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि, क्या इस फ्लैट की मालकिन बीजेपी से ताल्लुक नहीं रखती? क्या यह सच नहीं है कि उन्होंने यह घर अपने ही बेटे को किराये पर दिया? यह सभी वोटर आईडी कार्ड बीजेपी नेता के घर कैसे पहुंचे? और क्या बीजेपी के बड़े नेताओं के खिलाफ जांच नहीं होनी चाहिए?इससे पहले बीजेपी के सदानंद गौड़ा ने आरोप लगाया था कि इस मामले में राज राजेश्वरी नगर से कांग्रेस के उम्मीदवार मुनिरत्न नायडू का हाथ है।

Courtesy: navjivanindia.

Categories: India

Related Articles