पिछले 6 दिनों में मध्यप्रदेश में 6 किसानों ने की आत्महत्या, किसान पुत्र ‘शिवराज’ कर्नाटक में चुनाव प्रचार में लगे रहे

पिछले 6 दिनों में मध्यप्रदेश में 6 किसानों ने की आत्महत्या, किसान पुत्र ‘शिवराज’ कर्नाटक में चुनाव प्रचार में लगे रहे

मध्यप्रदेश को पूरे देश में किसानों की सबसे ज़्यादा आत्महत्या के लिए जाना जाता है एक फिर मश्य्प्रदेश में फिर से ये बता साबित हो गई है राज्य में छह दिनों में छह किसान आत्महत्या कर चुके हैं

पिछले एक हफ्ते में कर्ज के बोझ तले दबे छह किसानों ने आत्महत्या कर ली है इसमें मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान के गृह जिले का एक किसान भी शामिल है गौरतलब है कि राज्य में पिछले 15 सालों से भाजपा की ही सरकार है

धार के बदनावर में भी एक किसान जगदीश ने कर्ज से परेशान होकर आत्महत्या कर ली। उज्जैन के कडोदिया में किसान राधेश्याम और रतलाम में एक किसान ने जान दी है। आम किसान यूनियन के केदार सिरोही का कहना है कि राज्य में सात दिन में छह किसानों की आत्महत्या करने से साफ है कि किसान परेशान है और सरकार उसकी मदद नहीं कर रही है।

हाल ही में सामने आए मामले में नरसिंहपुर के सुआतला थाने के गुड़वारा गांव का है जहां किसान मथुरा प्रसाद लोधी ने देर रात कीटनाशक पी कर अपनी जिंदगी खत्म कर ली मृतक के परिजनों का आरोप है कि बैंक कर्मी घर आये थे और कर्ज की वसूली का दबाब बना रहे थे

दूसरा मामला तो भाजपा से ही जुड़ा है विदिशा में कर्ज और कर्जदारों के दबाब के चलते BJP किसान मोर्चा के जिला मंत्री 42 वर्षीय विनोद दांगी ने जहर खाकर कर ली है घटना सोमवार दोपहर की है मृतक विनोद किसानी करता था और इसके अलावा BJP किसान मोर्चा में जिलामंत्री था मृतक ने रसूखदारों से कर्ज लिया था

वहीं बुधवार को राजगढ़ जिले के बोड़ा थानाक्षेत्र के खानपुरा गांव में 60 वर्षीय एक दलित बुजुर्ग किसान ने साहूकारों के कर्ज से परेशान होकर गांव के पेड़ पर फांसी लगा कर आत्महत्या कर ली दूसरी तरफ गन्ने के पैसे नहीं मिलने और अपनी फसल का भाव नहीं मिलने पर कर्ज के बोझ से परेशान किसान ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली

इसके अलावा रतलाम के सेजावता गांव के एक किसान कलुगिरी गोस्वामी का उनके खेत पर पेड़ से झूलता शव मिला परिजनजों का कहना है कि पिछले कुछ दिनों से कलुगिरी कर्ज को लेकर परेशान था हालांकि कर्ज किसलिए कब लिया यह उसने नहीं बताया थालेकिन घर पर एक नोटिस के आने की बाद से वो परेशान था

Courtesy: Boltaup

Categories: India

Related Articles