पंचायत चुनाव : बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ताओं में खूनी भिड़ंत के बाद बैलेट पेपर तालाब में फेंका, पांच पत्रकार घायल

पंचायत चुनाव : बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ताओं में खूनी भिड़ंत के बाद बैलेट पेपर तालाब में फेंका, पांच पत्रकार घायल

पंचायत चुनाव में कानून व्यवस्था एकदम लचर हो गई है। इस दौरान जगह जगह हिंसा की बात सामने आ रही है। पंचायत चुनाव के दौरान नदिया जिले के नकशीपाड़ा में हुई हिंसा में एक अन्य टीएमसी कार्यकर्ता की मौत हो गई। चुनावी हिंसा के कारण सोमवार को हुई यह सातवीं मौत थी। इस हिंसा में 5 पत्रकारों की घायल होने की ख़बर है। मुर्शिदाबाद में तो टीएमसी और बीजेपी के कार्यकर्ताओं के बीच हुए झगड़े में चुनावी प्रकिर्या को निशाने पर ले लिया गया है। बैलट पेपर को तालाब में फ़ेक दिया गया है जिसके कारण वोटिंग भी रोक दी गई है।

दरअसल ग्राम पंचायत चुनाव समिति और जिला परिषद् स्तर पर 58,692 सीटों में से इस बार 38,616 सीटों के लिए ही वोटिंग हो रही है। मगर इस बीच कई जगहों से बूथ कैप्चरिंग की ख़बरें और जगह जगह बीजेपी और टीएमसी कार्यकर्ताओं के बीच भिड़त की खबरें आ रही है। वही चुनाव में हो रही हिंसा पर टीएमसी और बीजेपी एक दुसरे पर आरोप लगा रहे है।

बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री बाबुल सुप्रियो ने पंचायत चुनाव में हिंसा के लिए तृणमूल कांग्रेस की सरकार को जिम्मेदार ठहराया और राज्य में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है।

वही टीएमसी सांसद डेरेक ओ’ ब्रायन ने सीपीएम और बीजेपी पर प्रहार किया है। उन्होंने लिखा, ‘सीपीएम और बीजेपी इतनी बेचैन हो चुकी है कि वह आज बंगाल में तृणमूल कार्यकर्ताओं पर हमले के लिए माओवादियों के साथ मिल गई है।

Courtesy: boltaup.

Categories: India

Related Articles