कांग्रेस की सरकार बनने पर मध्य प्रदेश के किसानों के कर्ज 10 दिन में होंगे माफ: राहुल गांधी

कांग्रेस की सरकार बनने पर मध्य प्रदेश के किसानों के कर्ज 10 दिन में होंगे माफ: राहुल गांधी

मध्य प्रदेश के मंदसौर गोलीकांड की पहली बरसी पर कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी बुधवार को खोखरा गांव में घोषणा की कि अगर मध्य प्रदेश में हमारी सरकार आई तो हम 10 दिन में किसानों का कर्जा माफ करेंगे। उन्होंने कहा, ‘प्रधानमंत्री नरेंद्र  मोदीजी ने किसानों के साथ धोखा किया। उन्होंने किसानों को फसलों की सही कीमत देने का वादा किया था। लेकिन वे फेल हो गए।’

उन्होंने कहा, ‘मंदसौर गोलीकांड के एक साल बाद भी जांच आयोग की रिपोर्ट नहीं आई है। शहीद किसानों के परिवार न्याय का इंतजार कर रहे हैं। अपने परिजनों को खोने का दर्द मैं जानता हूं।’

इससे पहले वह आंदोलन में मारे गए किसानों के परिजनों से मिलने पहुंचे। उनसे करीब 10 मिनट तक बात की। मृतक किसान अभिषेक पाटीदार के परिवार ने आरोप लगाया है कि एसडीएम ने हमें राहुल से न मिलने की हिदायत दी और दबाव बनाया।

‘प्रधानमंत्री ललित मोदी, नीरव मोदी से कहते हैं- और पैसा ले जाओ’

राहुल गांधी ने कहा, ‘मुझे बताया गया कि 1200 किसानों ने मध्यप्रदेश में आत्महत्या की है। एक के बाद एक मंदसौर के किसान आत्महत्या कर रहे हैं। क्या हिंदुस्तान में सबसे अमीर लोगों ने लाखों करोड़ का एनपीए है। 2.5 लाख करोड़ मोदी ने खुद उनको दिया। क्या इन लोगों के परिवारों में किसी ने आत्महत्या की? किसान को बताया जाता है कि कर्ज है, जाओ आत्महत्या करो। हिंदुस्तान के सबसे अमीर लोगों पर लाखों-करोड़ों का कर्ज होता है। कहते हैं आप माल्या है, ललित मोदी हैं, नीरव मोदी हैं हमसे और पैसा लो और भाग जाओ। न सजा होगी न कार्रवाई होगी 30 हजार करोड़ नीरव मोदी की जेब में जाएंगे।’

उन्होंने कहा, ‘नरेंद्र मोदी जी मेहुल चोकसी को मेहुल भाई कहते हैं। नीरव मोदी को नीरव भाई कहते हैं। नीरव भाई और मेहुल भाई को मोदी जी ने 30 हजार करोड़ रुपया दिया। इतने रुपए के साथ आप मध्य प्रदेश के हर किसान का दो बार कर्ज माफ कर सकते हो। पूरे देश के युवाओं ने नरेंद्र मोदी जी पर भरोसा किया। आज खुशी है मुझे कि इस भीड़ में हजारों-लाखों युवा खड़े हैं। मैं आपको कहना चाहता हूं कि उन्होंने किसानों को धोखा दिया, उन्हें सही दाम दिलवाने का भरोसा दिया था। लहसुन का क्या दाम मिलता है, 200। यूपीए की सरकार में आपको लहसुन, सोयाबीन का क्या दाम मिलता था।’

मध्यप्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष कमलनाथ ने कहा कि मध्यप्रदेश के किसानों और नौजवानों के भरोसे 2018 का चुनाव होगा। ज्योतिरादित्य सिंधिया ने कहा कि कांग्रेस की सरकार किसान की अर्जी से नहीं बल्कि किसान की मर्जी से बनेगी।

पांच दिनों से हाई अलर्ट पर है जिला, आज सबसे बड़ी चुनौती

पिछले साल किसान आंदोलन के दौरान मंदसौर में 6 लोगों की मौत की बरसी के बीच इस बार गृह मंत्रालय ने 1 जून से ही मंदसाैर को हाई अलर्ट जोन में रखा है। इस बार किसानों ने 10 दिनी आंदोलन की घोषणा की है।1 जून से जारी और 10 जून तक चलने वाले इस किसान आंदोलन के बीच कई किसान संगठनों की सभाएं भी होनी हैं।

 

Courtesy: outlook

Categories: India

Related Articles