2019 के लिए महागठबंधन जरूरी: राहुल गांधी, महाराष्ट्र के चंद्रपुर में की किसान चौपाल

2019 के लिए महागठबंधन जरूरी: राहुल गांधी, महाराष्ट्र के चंद्रपुर में की किसान चौपाल

नागपुर.राहुल गांधी 13 जून को महाराष्ट्र में चंद्रपुर के नांदेड गांव में किसानों की चौपाल कर रहे हैं। इससे पहले उन्होंने नागपुर में एचएमटी धान आविष्कारक और दिवंगत कृषि वैज्ञानिक दादाजी खोबरागड़े के परिवार से मिले। उनके परिवार से मुलाकात की। दादाजी खोबरागड़े को धान की प्रजाति विकसित करने के लिए अवॉर्ड भी मिला था। चंद्रपुर जाने से पहले राहुल ने मुंबई में एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान फिर एक बार बीजेपी, आरएसएस पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि 2019 के लिए अब महागठबंधन जरूरी हो गया है।

राहुल का आरोप- केंद्र सरकार अमीरों के लिए काम कर रही
– राहुल गांधी ने कहा, “केंद्र सरकार अमीरों के लिए काम कर रही है। पेट्रोल के दाम आसमान पर हैं और जनता परेशान है। लेकिन उनकी कोई सुध नहीं ले रहा है।”
– “जो महागठबंधन है वह देश में सेकुलर है। पूरा विपक्ष प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, भाजपा और आरएसएस के खिलाफ खड़ा है। यह सेंटिमेंट सिर्फ राजनीतिक लोगों में नहीं, बल्कि आम जनता में भी है। यह सवाल जनता के अंदर भी है। ये हिंदुस्तान के संविधान, संस्थान पर आक्रमण कर रहे हैं। इसे रोकने की जरूरत है। इस आवाज को कांग्रेस पार्टी जोड़ने का काम कर रही है। अन्य पार्टियां भी इसमें मिली हुई हैं। जो सबसे अमीर लोग हैं उनके लिए सरकार काम कर रही है। उनका लाखों रुपए का कर्ज माफ किया गया है। मुंबई के छोटे दुकानदारों पर निशाना बनाया जा रहा है। ऐसे में 2019 में अब महागठबंधन जरुरी हो गया है।”

खोबरागढ़े ने अपने आविश्कारों का कभी पेटेंट नहीं कराया

– नांदेड़ गांव के रहने वाले दादाजी खोबरागड़े ने एचएमटी धान की प्रजाति विकसित की थी। उन्होंने अपने आविष्कारों को मुफ्त में किसानों को बांटा और उसका कभी पेटेंट नहीं कराया। खोबरागड़े लगवा हुआ था और महाराष्ट्र के शोध ग्राम के अस्पताल में इसी महीने उनका निधन हो गया।

राहुल से पहले केंद्रीय मंत्री पहुंचे खोबरागड़े के घर
– राहुल गांधी के नांदेड़ दौरे की खबर मिलते ही आनन-फानन में केंद्र सरकार भी सक्रिय हो गई। उसके प्रतिनिधि के रूप में केंद्रीय गृह राज्यमंत्री हंसराज अहीर ने सोमवार शाम दादाजी खोबरागड़े के पैतृक गांव नांदेड़ जाकर उनके परिजनों से मुलाकात की। उन्होंने परिवार के सदस्यों की शिक्षा, रोजगार का भरोसा दिलाया और उनकी स्मृति में प्रवेश द्वार बनाने का ऐलान कर दिया।

Categories: India