मोदी सरकार एक तरफ रक्षा बजट में कटौती करती है दूसरी तरफ सर्जिकल स्ट्राइक का क्रेडिट लेती है: कांग्रेस

मोदी सरकार एक तरफ रक्षा बजट में कटौती करती है दूसरी तरफ सर्जिकल स्ट्राइक का क्रेडिट लेती है: कांग्रेस

मोदी सरकार ने सर्जिकल स्ट्राइक को चुनाव प्रचार में इस्तेमाल कर चुनाव प्रभावित किया है। ऐसा कहना है कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला का जिन्होंने कांग्रेस की तरफ से प्रेस करते हुए मोदी सरकार पर जमकर निशाना साधा है।

सुरजेवाला ने मोदी सरकार द्वारा की रक्षा बजट में कटौतियों पर ध्यान आकर्षित करवाते हुए कहा कि क्या मोदी सरकार देश की सुरक्षा के बुनियादी ढांचे को खतरे में नहीं डाल रही है?

दरअसल कांग्रेस का मानना है की मोदी सरकार ने रक्षा बजट में कटौती की है। इसके साथ पीएम मोदी पर आरोप लगाते हुए कहा कि मोदी सरकार और भाजपा देश के सैनिकों और सर्जिकल स्ट्राईक का राजनीतिक फायदा लूटने का हर हथकंडा अपनाये हुए है।

सर्जिकल स्ट्राइक की चर्चा करते हुए रणदीप सुरजेवाला ने कहा, दुर्भाग्य से भाजपा ने उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव में सर्जिकल स्ट्राईक का लज्जाजनक तरीके से इस्तेमाल किया।

सुरजेवाला ने मोदी सरकार पर सेना के साथ सौतेला व्यवहार करने का आरोप लगाते हुए कहा कि सेना के प्रति मोदी सरकार का दुराग्रह और खोखली बातें इस बात से साबित हैं कि सेना ने बजट में कटौती कर और आधुनिक उपकरण मुहैया न करवाकर देश की सेना से सौतेला व्यवहार किया है

रक्षा मामलों की संसदीय समिति ने चौंकाने वाली बात ये भी कही है कि मोदी सरकार ने चालू खरीद भी पूरी करने के लिये पैसा नहीं दिया है एक साल से भारतीय सेना के ऑफिसर्स का राशन मोदी सरकार ने बिना कोई कारण बताये बंद कर रखा है सेना से दुर्भावना का इससे बड़ा प्रमाण क्या होगा कि रेजिमेंट एलाउंस घटाकर आधा कर दिया गया है।

उन्होंने आगे कहा कि जब-जब मोदी जी और अमित शाह की भाजपा पर असफलता का संकट मंडराता है, तब-तब उन्हें सेना के शौर्य को सियासी तौर पर भुनाने की याद क्यों आती है?

सुरजेवाला ने कहा कि हर बार जब मोदी सरकार फेल होने लगती है तो वो सेना के शौर्य का दुरुपयोग राजनीतिक रोटियां सेंकने का काम क्यों करती है? यह मोदी सरकार की ढुल-मुल नीति का ही परिणाम है कि 79 बार उग्रवादी आकर हमारे ऊपर हमला कर देते हैं।

सैनिकों को खुद अपनी वर्दी खरीदने के मामले पर सुरजेवाला ने कहा कि सेना के बजट में कटौती की वजह से ऑर्डिनेंस फैक्ट्री से खरीद 94 प्रतिशत से घटकर 50 प्रतिशत करने का निर्णय लिया गया है, जिसके चलते देश के सैनिकों को यूनिफॉर्म, कॉम्बैट ड्रेस, बेल्ट और जूते अपने खुद के पैसे खर्च करके खरीदने पड़ेंगे

रक्षा बजट में पैसे की कमी बताते हुए सुरजेवाला ने कहा कि रक्षा संसदीय समिति ने अपनी रिपोर्ट में ऊरी हमले/सर्जिकल स्ट्राईक/डोकलाम विवाद के बावजूद सेना द्वारा इमरजेंसी खरीद के लिए पैसे की कमी पर प्रकाश डाला है। उन्होंने कहा कि समिति ने यह सनसनीखेज खुलासा भी किया कि आधुनिकीकरण के लिए तो पैसा है ही नहीं, इसके विपरीत जारी खरीद के लिए आवश्यक 29,033 करोड़ में से भी केवल 21,338 करोड़ ही दिया गया है।

सुरजेवाला ने कहा सर्जिकल स्ट्राइक के बाद भी कई जवानों का शहीद हो जाना भी अपने आप में मोदी की सरकार की बड़ी विफलता है। उन्होंने कहा मोदी सरकार की विफलता का सबसे बड़ा सबूत यही है कि सितंबर, 2016 की सर्जिकल स्ट्राईक के बाद 146 सैनिक शहीद हो चुके, पाकिस्तान 1600 से अधिक बार नियंत्रण रेखा का उल्लंघन कर चुका।

Courtesy: Boltaup

Categories: India

Related Articles