हमनें 70 लाख नौकरियां दी : PM मोदी, लोग बोले- ‘मॉब लिंचिंग’ करना रोजगार नहीं होता है मोदीजी

हमनें 70 लाख नौकरियां दी : PM मोदी, लोग बोले- ‘मॉब लिंचिंग’ करना रोजगार नहीं होता है मोदीजी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने स्वराज नाम की एक पत्रिका समूह को अपना इंटरव्यू दिया। जिसमें उन्होंने रोजगार से जुड़े सवालों पर अपना जवाब दिया उन्होंने कहा की नौकरी के मुद्दे पर हमें दोष देने के लिए मैं विपक्ष को दोष नहीं देता हूँ, मगर ये ज़रूर कहूँगा की हमारी सरकार के पास नौकरियों पर सही डेटा नहीं है। पीएम मोदी ने कहा कि नई इकॉनमी में पैदा होने वाली नौकरी के हिसाब से नौकरी को गिनने के हमारे तरीके अब पुराने हो चले है जो अब सही नहीं है।

पीएम मोदी ने सही तरीके बताते हुए कहा कि आज देशभर में करीब 15 हज़ार से ज्यादा स्टार्ट अप है जो हजारों युवाओं को रोजगार दे रहे है जिन्हें सरकार किसी न किसी तरह मदद कर रही है। क्या ये रोजगार की गिनती में नहीं आएगा?

उन्होंने ईपीएफओ पेरोल डेटा का हवाला देते हुए कहा कि सितंबर 2017 से अप्रैल 2018 तक 41 लाख से अधिक औपचारिक जॉब क्रिएट की गई थीं। एक अध्ययन के मुताबिक, ईपीएफओ के आंकड़ों के आधार पर पिछले साल फॉर्मल सेक्टर में 70 लाख से ज्यादा नौकरियां पैदा हुई थीं।

पीएम मोदी की इस इंटरव्यू पर लोगों ने सोशल मीडिया पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। एक यूज़र ने मॉब लिंचिंग पर तंज कसते हुए लिखा काका वो मॉब लिंचिंग रोजगार नहीं होता है।

एक और यूज़र ने लिखा पकौडे बेचना,पान बेचना,भीख माँगना,जेब काटने की नौकरीया दी है भाजपा सरकार ने।

एक और यूज़र ने पीएम मोदी को उनका वादा याद दिलाते हुए कहा, तो 2014 में हर साल दो करोड़ नौकरी देने का वादा क्यों किया था?

Courtesy: Boltaup

Categories: India

Related Articles