LIVE: कर्नाटक में 34 हजार करोड़ की कर्जमाफी का ऐलान, हर किसान के दो लाख होंगे माफ

LIVE: कर्नाटक में 34 हजार करोड़ की कर्जमाफी का ऐलान, हर किसान के दो लाख होंगे माफ

कर्नाटक के मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी गुरुवार को अपना पहला बजट पेश कर रहे हैं. उन्होंने किसानों की कर्ज माफी की घोषणा की है. विधानसभा चुनावों के दौरान कांग्रेस और जेडीएस ने अपने-अपने घोषणापत्र में इसका ऐलान किया था.

UPDATES:

-बेंगलुरु में पेरिफेरल रिंगरोड का निर्माण होगा,  इसकी लागत 11,950 करोड़ रुपये आएगी, सरकार ने विशेष उद्देश्य वाले वाहनों को मंजूरी दे दी है

-पूर्व की कांग्रेस सरकार की सभी कल्याणकारी योजनाएं जारी रहेंगी- कुमारस्वामी

-इंदिरा कैंटिन, अन्न भाग्य योजना जारी रहेंगी, इसे और बेहतर बनाया जाएगा

-सीएम के इस ऐलान से  25 हजार किसानों को मिलेगा लाभ

-सीएम ने बताया कि किसानों की कर्ज माफी का यह पहला चरण है

-किसानों को 31 दिसंबर 2017 तक लिए कर्ज पर मिलेगा ऋण माफी का लाभ

किसानों के 34000 करोड़ रुपये के कर्म माफी की घोषणा, हर किसान का 2 लाख रुपया होगा माफ

-मुख्यमंत्री कुमारस्वामी ने विधानसभा में बजट भाषण पढ़ना शुरू किया

-विधानसभा में घंटी बजी, असेंबली सभागार में विधायकों का आना शुरू

-पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता सिद्धारमैया विधानसभा पहुंचे

-बजट पेश करने का यह मेरा पहला अनुभव है, मैं इसे चुनौती के तौर पर देखता हूं- कुमारस्वामी

-मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी पेश करने के लिए विधानसभा पहुंचे

इससे पहले बुधवार को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने ट्वीट कर विश्वास जताया था कि सरकार अपने चुनावी वादे के मुताबिक किसानों का कर्ज माफ करेगी और यहीं से पूरे देश के किसानों के लिए उम्मीद पैदा होगी.

राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा, ‘कर्नाटक में बजट की पूर्व संध्या पर मुझे पूरा भरोसा है कि कांग्रेस-जेडीएस सरकार किसानों की कर्जमाफी करने और खेती को अधिक मुनाफे का काम बनाने के हमारे वादे को पूरा करेगी. उन्होंने कहा, ‘यह बजट पूरे देश के किसानों की खातिर कर्नाटक को आशा की किरण बनाने के लिए हमारी सरकार के पास एक अवसर की तरह है.’

घोषणापत्र में किया था ऐलान

कुमार स्वामी सुबह 10.30 बजे से बजट पेश करना शुरू करेंगे. सबकी नजर इस बात पर है कि मुख्यमंत्री सिर्फ कॉपरेटिव बैंकों से लिए कर्ज माफ करेंगे या सभी बैकों से मिले किसानों के ऋण माफ करते हैं. किसानों की मांग है कि उनके कर्ज एक ही बार में माफ कर दिए जाएं और किस्तों में इसे निपटाने की झंझट न रखी जाए.

राज्य कृषि विभाग के मुताबिक कर्नाटक में सूखे की बदहाली के चलते तकरीबन 2,525 किसान आत्महत्या कर चुके हैं. कुमारस्वामी का यह पहला बजट होगा और जेडीएस ने अपने अपने घोषणापत्र में किसानों की कर्ज माफी की घोषणा की थी.

राजकोषीय व्यवस्था पर असर

एक अनुमान के मुताबकि राज्य में 53,000 करोड़ रुपये का कर्ज माफ किया जाना है. विशेषज्ञों का मानना है कि अगर कांग्रेस-जेडीएस सरकार अपना वादा पूरा करती है तो इससे राज्य की राजकोषीय व्यवस्था प्रभावित होगी. इससे पहले सत्तारूढ़ रही कांग्रेस ने भी 8,165 करोड़ रुपये किसानों का कर्ज माफ किया था जिससे 22,27,506 किसानों को लाभ मिला था. लेकिन पूर्व की कांग्रेस सरकार के इस फैसले से सिर्फ उन्हीं किसानों को फायदा मिल पाया था जिन्होंने सहकारी बैंकों से 50,000 से 20 जून 2017 तक कर्ज लिया था.

Courtesy: aajtak

Categories: India

Related Articles

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*