शर्मनाक: मंदसौर और सतना में मासूम बच्ची के साथ हैवानियत के बाद अब सागर में नाबालिग आदिवासी लड़की से गैंगरेप

शर्मनाक: मंदसौर और सतना में मासूम बच्ची के साथ हैवानियत के बाद अब सागर में नाबालिग आदिवासी लड़की से गैंगरेप

मध्य प्रदेश के मंदसौर जिले में पिछले सप्ताह सात वर्षीय बच्ची के साथ हुई सामूहिक बलात्कार की वारदात के बाद सतना जिले में एक चार साल की मासूम बच्ची के साथ रेप की घटना का मामला अभी शांत भी नहीं हुआ की अब राज्य के सागर के पास तेजपुर गांव में 14 वर्षीय एक आदिवासी लड़की के साथ दो नाबालिग लड़कों सहित चार लोगों द्वारा कथित रूप से सामूहिक बलात्कार करने का मामला सामने आया है। ख़बर के मुताबिक, इस घटना में एक महिला ने इन चारों आरोपियों की मदद की।

 

समाचार एजेंसी भाषा की रिपोर्ट के मुताबिक, गौरझामर पुलिस थाने के सहायक उपनिरीक्षक के एल अहिरवार ने बुधवार (चार जुलाई) को बताया कि इन आरोपियों ने इस नाबालिग लड़की के साथ मंगलवार सुबह से रात तक सामूहिक बलात्कार किया और जब वह अचेत हो गई तो देर रात एक सरकारी स्कूल के पास फेंक दिया। उन्होंने कहा कि पीड़िता को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है, जहां उसकी स्थिति स्थिर बनी हुई है। पीड़िता ने कुछ समय पहले ही स्कूल जाना छोड़ दिया था।

अहिरवार ने बताया कि इस मामले में दो नाबालिग सहित गोपाल अहिरवार, परमेन्द्र अहिरवार एवं इस घिनौने कृत्य में आरोपियों की मदद करने वाली महिला ममता अहिरवार के खिलाफ गैंगरेप का मामला दर्ज किया गया है। इसके अलावा, इनके खिलाफ पॉक्सो एक्ट तथा अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार निरोधक) अधिनियम के तहत भी मामला दर्ज किया गया है।

घटना की विस्तृत जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि मंगलवार सुबह जब पीड़िता अपने घर में अकेली थी, उस वक्त ममता उसके घर गई और उसे अपने पास के घर में घरेलू काम करने के लिए ले गई और एक कमरे में बंद कर दिया, जहां चार आरोपियों ने उसके साथ बारी-बारी से बलात्कार किया। अहिरवार ने बताया कि बाद में जब पीड़िता अचेत हो गई, तो उन्होंने उसे अंधेरे में स्कूल के पास फेंक दिया।

उन्होंने कहा कि बाद में उसे उसके माता-पिता ने स्कूल के पास के अचेत अवस्था में पाया और टेमरी इलाके स्थित एक प्राइमरी हेल्थ सेंटर में ले गये, जहां से उसे बुधवार सुबह जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। पीड़िता के माता-पिता मजदूर हैं।

सागर जिले के पुलिस अधीक्षक एस शुक्ला ने बताया कि पीड़िता के बयान के बाद सभी आरोपियों को बुधवार को हिरासत में लिया गया है। शुक्ला ने कहा कि पीड़िता की मेडिकल जांच हो गई है और रिपोर्ट का इंतजार है। उन्होंने बताया कि आरोपियों की भी मेडिकल जांच की जायेगी और उसके नतीजों के आधार पर उन्हें गिरफ्तार किया जाएगा, वर्तमान में वे हिरासत में हैं। शुक्ला ने बताया कि मामले की विस्तृत जांच जारी है।

 

बता दें कि, मंदसौर जिले में सात वर्षीय बच्ची के साथ हुई सामूहिक बलात्कार की वारदात के बाद सतना जिले में एक चार साल की मासूम बच्ची के साथ रेप की घटना सामने आई है। रेप की शिकार हुई चार साल की मासूम बच्ची की हालत में तेजी से सुधार के लिए उसे बेहतर इलाज के लिए मंगलवार को एयर एंबुलेंस के जरिये दिल्ली लाया गया और एम्स में भर्ती कराया गया। इस मामले में कार्रवाई करते हुए पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है।

बता दें कि, पिछले सप्ताह मंदसौर में सात वर्षीय स्कूली छात्रा को गैंगरेप का शिकार बनाया गया था। स्कूल की छुट्टी के बाद घरवालों का इंतज़ार कर रही बच्ची का अपहरण कर लिया गया था। आरोपियों ने रेप के बाद बच्ची को मारने की कोशिश की थी और फिर उसे मरा समझकर झाड़ियों में फेंककर भाग गए थे। पीड़ित बच्ची मंदसौर से करीब 200 किलोमीटर दूर इंदौर के एमवायएच में 27 जून की रात से भर्ती है। पुलिस इस केस में कार्रवाई करते हुए दो आरोपी इरफान और आसिफ को गिरफ़्तार किया है।

 

Courtesy: jantakareporter

Categories: Crime

Related Articles