बिहार: नाबालिग छात्रा ने प्रिंसिपल, दो शिक्षक और 15 छात्र पर लगाया 7 महीने तक स्कूल में रेप करने का आरोप

बिहार: नाबालिग छात्रा ने प्रिंसिपल, दो शिक्षक और 15 छात्र पर लगाया 7 महीने तक स्कूल में रेप करने का आरोप

देश में कड़े कानून बनने के बावजूद भी राजधानी दिल्ली सहित देश के अन्य राज्यों में मासूम बच्चियों और महिलाएं से रेप व छेड़छाड़ की घटनाएं रुकने का नाम ही नहीं ले रहीं है, जिसका ताजा मामला बिहार से सामने आया है। यहां एक प्राइवेट स्कूल की कक्षा 9 में पढ़ने वाली एक नाबालिग छात्रा ने 18 लोगों पर बलात्कार करने का आरोप लगाया है। घटना बिहार के सारण जिले के एक प्राइवेट स्कूल की है।

समाचार एजेंसी ANI के मुताबिक, कक्षा 9 में पढ़ने वाली छात्रा ने आरोप लगाया कि उसके साथ पिछले सात महीने में 18 लोगों ने बलात्कार किया। छात्रा ने जिन लोगों पर आरोप लगाए है उसमें स्कूल के प्रिंसिपल, टीचर्स और स्कूल के ही 15 छात्र शामिल हैं। छात्रा के बयान पर सारण पुलिस ने चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया जिनमें प्रिंसिपल और एक शिक्षक समेत दो छात्र शामिल हैं।

एनडीटीवी की रिपोर्ट के मुताबिक, एकमा थाना के परसा गढ़ स्थित दिपेश्वर विद्या निकेतन की छात्रा ने शिकायत में कहा है कि दिसम्बर 2017 में उसके साथ उसी के क्लास के एक युवक ने दुष्कर्म किया। उसके बाद उसी की ब्लैकमेलिंग कर क्लास के चार-पांच युवकों के अलावा दो शिक्षकों और प्रिंसिपल ने भी छात्रा का यौन शोषण किया।

छात्रा ने बताया कि यह सिलसिला पिछले छह महीने से चलता आ रहा था। 13 वर्षीय छात्रा ने अपने पिता के साथ शुक्रवार को एकमा थाने में पहुंचकर थानेदार अनुज कुमार सिंह को जब अपनी आप बीती सुनाई। जिसके बाद आनन-फानन में उसकी सूचना महिला थाने को देकर छात्रा का बयान दर्ज किया गया। महिला थानाप्रभारी ने छात्रा को अपने साथ ले जाकर छपरा सदर अस्पताल में मेडिकल जांच करवाया।

रिपोर्ट के मुताबिक, मामले की गंभीरता को देखते हुए सिविल सर्जन ने मेडिकल बोर्ड का गठन कर नाबालिग की जांच करवाई। वहीं सारण के एसडीपीओ अजय कुमार सिंह ने अपने दल बल के साथ एकमा थाना के परसा गढ़ के दिपेश्वर बिद्या निकेतन पहुंचकर स्कूल के प्रिंसिपल दो शिक्षकों तथा दो छात्रों को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रहे हैं। मामले के अन्‍य आरोपी फरार हैं जिसको लेकर पुलिस छापेमारी कर रही है।

Categories: Crime

Write a Comment

Your e-mail address will not be published.
Required fields are marked*