अखिलेश का आरोप, चुनाव पास आते देख BJP कर रही है किसान हितैषी होने का दिखावा

अखिलेश का आरोप, चुनाव पास आते देख BJP कर रही है किसान हितैषी होने का दिखावा

भाजपा पर लगातार हमला बोलने वाले उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने एक बार फिर केंद्र की भाजपा सरकार को आड़े हाथों लिया है। अखिलेश यादव ने कहा कि लोकसभा चुनाव करीब आ रहा है, इसलिए बीजेपी किसानों का हितैषी होने का दिखावा करने लगी है।

चुनाव आते देख किसानों का हितैषी होने का दिखावा कर रही है BJP

सपा प्रमुख ने कहा किसानों के उत्पादों के लिए घोषित न्यूनतम समर्थन मूल्य से किसान को कुछ मिलने वाला नहीं है, क्योंकि उसकी अर्थनीति किसान पक्षधर नहीं, कॉर्पोरेट घरानों के हित साधने की है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, सत्ताधारी बीजेपी पर हमला बोलते हुए समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कहा कि लोकसभा चुनाव करीब आ रहा है, इसलिए बीजेपी किसानों का हितैषी होने का दिखावा करने लगी है।

किसानों के समर्थन का ढोंग कर रही हैबीजेपी

उन्होंने कहा कि बीजेपा ने न्यूनतम समर्थन मूल्य में डेढ़ गुना जोड़ने का जो दावा किया है, वह उसकी दोषपूर्ण आर्थिक नीति को साबित करता है। उन्होंने आगे कहा, ‘स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट की संस्तुतियों से बीजेपी साफ मुकर गई थी और अब किसानों के समर्थन का ढोंग कर रही है’।

अखिलेश का आरोप, बीजेपी सरकार में किसानों की सबसे ज्यादा दुर्दशा

अखिलेश यादव ने आगे कहा कि बीजेपी सरकार में किसानों की सबसे ज्यादा दुर्दशा है। उसके साथ न्याय नहीं हो रहा है। उसकी जमीन कर्ज में फंसी है, कृषि मंडियों में किसान लुट रहा है, सिंचाई का संकट है। विद्युत आपूर्ति बाधित है, किसान निराशा और कुंठा में आत्महत्या कर रहे हैं। बीजेपी को अन्नदाताओं को धोखा देने में भी कोई गुरेज नहीं है।

अपने जन्मकाल से ही बीजेपी का किसान और खेत से कोई वास्ता नहीं रहा

उन्होंने आगे कहा कि केंद्र में बीजेपी सरकार का अंतिम साल है, किसानों को लाभ पहुंचाने का ख्याल उसे अब तक क्यों नहीं आया था? अखिलेश यादव ने कहा कि अपने जन्मकाल से ही बीजेपी का किसान और खेत से कोई वास्ता नहीं रहा है, खेतों का वह दूरदर्शन करती आई है।

बीजेपी के कार्यकाल में 40 हजार किसानों ने की आत्महत्या

अखिलेश ने कहा कि उत्तर प्रदेश में ही गन्ना किसानों का लगभग 12238 करोड़ रुपया चीनी मिलों पर बकाया है। कर्जमाफी का वादा बस वादा बनकर ही रह गया है। खाद, ट्रैक्टर, कीटनाशक दवाईयों पर जीएसटी की मार पड़ रही है। केंद्र की बीजेपी सरकार मई, 2017 में सुप्रीम कोर्ट में मान चुकी है कि उसके कार्यकाल में लगभग 40 हजार किसानों ने आत्महत्या की है।

चुनावी संभावनाओं पर आधारित है बीजेपी का सारा खेल

अखिलेश यादव ने कहा कि सच तो यह है कि साल 2019 में अपने अंधकारमय भविष्य को देखते हुए बीजेपी सीधे-सादे किसानों को बहकाने में लग गई है। बीजेपी का सारा खेल चुनावी संभावनाओं पर आधारित है और इसके नेता समझते हैं कि वे फिर लोगों को अपनी ‘ओपियम की पुड़िया’ से बहकाने में सफल हो जाएंगे। लेकिन अब उनकी चाल में किसान फंसने वाले नहीं हैं। वे चार साल में बीजेपी का वास्तविक चेहरा पहचान गए हैं।

Courtesy: outlook

Categories: Politics

Related Articles